कोरोनिल विवादः कोविड क्योर नहीं कोविड मैनेजमेंट, बोले बाबा रामदेव- दवाएं आज से पूरे देश में मिलेंगी | ख़बर खर्ची

कोरोनिल विवादः कोविड क्योर नहीं कोविड मैनेजमेंट, बोले बाबा रामदेव- दवाएं आज से पूरे देश में मिलेंगी


Yoga Guru, coronil, baba ramdev, Coronavirus Treatment, Coronavirus Ayurvedic Vaccine, patanjali coronil ayurved medicine, Patanjali News  देश न्यूज़,देश, पतंजलि, कोरोनिल,  बाबा रामदेव,
पतंजलि के कोरोनिल औषधी पर उपजे विवाद को लेकर बाबा रामदेव ने बुधवार को प्रेस कॉन्फ्रेंस किया।

पतंजलि के कोरोनिल औषधी पर उपजे विवाद को लेकर बाबा रामदेव ने बुधवार को प्रेस कॉन्फ्रेंस किया। इस दौरान बाबा ने कोरोनिल को लेकर सफाई दी। बाबा ने कहा कि कोरोना के इलाज के लिए पतंजलि की कोरोनिल और श्वसारि दवा पर कोई कानूनी प्रतिबंध नहीं है। आज से हमारी कोरोनिल किट देशभर में उपलब्ध हो जाएगी। हमने अलग-अलग राज्य सरकारों से भी बात की है।

रामदेव ने आयुष मंत्रालय द्वारा दवा पर रोक लागने को लेकर कहा कि आयुष मंत्रालय ने सिर्फ इतना कहा कि आप क्योर शब्द इस्तेमाल मत कीजिए तो हमने कहा कि ठीक है इसे कोविड क्योर नहीं कहकर कोविड मैनेजमेंट कह लेंगे।

Advertisement

23 जून को बाबा ने कोरोनिल दवा लॉन्च की थी

गौरतलब है कि बाबा रामदेव की पतंजलि आयुर्वेद ने 23 जून को कोरोना का इलाज ढूंढने का दावा करते हुए कोरोनिल और श्वासारि दवा लॉन्च की थी। इसके 5 घंटे बाद ही केंद्र के आयुष मंत्रालय ने दवा पर सवाल उठाते हुए कहा था कि पतंजलि के इस दावे के फैक्ट और वैज्ञानिक तथ्यों की जानकारी नहीं है। केंद्र ने कहा कि पतंजलि इस दवा की जानकारी दे और हमारी जांच पूरी होने तक इसका प्रमोशन और विज्ञापन ना करे।

Advertisement

योग गुरु ने कहा कि हमने गिलोय, तुलसी, अश्वगंधा के तत्वों से कोरोनिल और रिदंती से लेकर दालचीनी जैसी औषधियों से श्वसारि बनाई। ये दोनों दवाएं साथ-साथ दी गई हैं। साथ में अणु तेल भी दिया गया है। इन तीनों का एक साथ क्लीनिकल ट्रायल किया गया है। रजिस्ट्रेशन और रिसर्च दोनों प्रक्रियाएं अलग-अलग हैं। हमें आतंकवादी कह दो, देशद्रोही कह दो कोई फर्क नहीं पड़ता।

Advertisement

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

x

Subscribe Now

You have successfully subscribed to the newsletter

There was an error while trying to send your request. Please try again.

ख़बर खर्ची will use the information you provide on this form to be in touch with you and to provide updates and marketing.