हफ्तेभर के भीतर यूपी में सड़क हादसों में 40 मजदूर गंवा चुके जान, औरेया के बाद एक और हुआ हादसा | ख़बर खर्ची

हफ्तेभर के भीतर यूपी में सड़क हादसों में 40 मजदूर गंवा चुके जान, औरेया के बाद एक और हुआ हादसा

uttar Pradesh Auraiya accindet, auraiya road accident news updates, 23 migrants killed, auraiya accident
auraiya today news, auraiya news video, auraiya news live, auraiya road accident, auraiya accident today
auraiya accident news today, 23 migrants killed in road accident, Auraiya road Accident,  UP migrant accindent,   Muzaffarnagar Road accindet,  Muzaffarnagar bus accident,  Auarangabad Train Accindent,  migrant labourers,  migrants,  Auraiya,  Uttar Pradesh,  truck collision,  truck,  truck accident, मजदूरों की मौत, सड़क हादसे में मजदूरों की मौत, औरैया न्यूज, यूपी के औरैया में सड़क हादसा, Covid 19 lockdown,  Migrant labourers Accident,  Migrant labourers,  CM Yogi,  madhya pradesh accident,  maharashtra,  migrant Workers,  Auraiya News,  UP Auraiya News Hindi, उत्तर प्रदेश, उत्तर प्रदेश औरैया हादसा, औरैया हादसे में 24 मजदूरों की मौत, सीएम योगी, योगी आदित्यनाथ, मुजफ्उफरनगर हादसा, मध्य प्रदेश हादसा, औरंगाबाद ट्रेन हादसा,
यूपी में 1 हफ्ते के भीतर अलग अलग सड़क हादसों में करीब 40 लोगों की मौत हो चुकी है।

कोरोना संकट में मजदूरों की जिंदगी जैसे राम भरोसे हो चली। पैदल चले तो मरे और किसी साधन के सहारे चले तो मरे। गांव पहुंचने के सफर पर निकले ये मजदूर एक के बाद एक हादसे के शिकार हो रहे हैं। 16 मई की सुबह ही उत्तर प्रदेश के औरेया में दो ट्रकों के आपस में टकराने से उनमें सवार 24 मजदूरों की मौत हो गई। जबकि 40 के आसपास लोग घायल हो गए हैं। इस हादसे की चीख पुकार अभी थमी नहीं थी कि यूपी के एक और हादसे में दंपती की मौत हो गई। रिपोर्ट के मुताबिक यह हादसा लखनऊ एक्सप्रेस-वे पर हुआ जहां एक टेंपों, ट्रक की चपेट में आ गया। हादसे में हरियाणा से दरभंगा(बिहार) जा रहे पति पत्नी की मौत हो गई। उनका 5 साल का मासूम बच्चा भी है।

वहीं औरेया हादसे को लेकर चश्मदीदों का कहना है कि हादसे के करीब दो घंटे बाद पुलिस मौके पर पहुंची। औरैया के जिलाधिकारी अभिषेक सिंह के मुताबिक पीछे से आ रहे ट्रक में राजस्थान से आ रहे कई मजदूर सवार थे। मरने वाले सभी मजदूर इसी ट्रक में सवार थे जबकि सड़क पर खड़े ट्रक में सवार लोग भी घायल हुए हैं। हादसे में घायलों को सैफई के मेडिकल कॉलेज भर्ती कराया गया जहां इलाज चल रहा है। घायलों में छह लोगों की स्थिति गंभीर बताई जा रही है।

Advertisement

राजस्थान से बिहार झारखंड जा रहे थे मजदूर

Advertisement

हादसे के शिकार हुए ज्यादातर मजदूर झारखंड के रहने वाले थे। वहीं कुछ को बिहार जाना था तो कुछ यूपी और पश्चिम बंगाल के रहने वाले थे। बता दें राजस्थान के भरतपुर से चले इस ट्रक में चूने की बोरियां भरी हुई थीं और उनके ऊपर करीब पचास मजदूर बैठे हुए थे।

आस पास के गांव तक पहुंची थी टक्कर की आवाज

Advertisement

हादसा इतना भयानक था कि दोनों ट्रकों की टक्कर की आवाज आस-पास के गांवों तक पहुंची थी। दोनों ही ट्रक उछलकर काफी दूर गड्ढे में जा गिरे थे।

12 घंटे के भीतर 32 की गई जान, हफ्तेभर में 40 मरे

Advertisement

हादसों की बात करें तो 12 घंटे के भीतर यूपी में तीन हादसे हुए जिसमें 32 लोगों की जानें चली गईं। वहीं एक हफ्ते के भीतर करीब 40 से ज्यादा लोग सड़क हादसे में अपनी जान गंवा चुके हैं। गौरतलब है कि 15 मई को ही अयोध्या हाईवे पर तेज रफ्तार एक वाहन ने पैदल जा रहे 11 श्रमिकों को रौंद दिया था। हादसे में पांच लोगों की मौत हो गई थी। वहीं 14 मई की देर रात यूपी के जालौन और बहराइच में दो अलग-अलग सड़क दुर्घटनाओं में तीन प्रवासी मजदूरों की मौत होगई जबकि दर्जनों लोग घायल हो गए।

जबकि 13 और 14 मई को तीन अलग-अलग सड़क हादसों में 15 मजदूरों की मौत हो गई है। इनमें से कई घायलों का इलाज अभी भी चल रहा है। इसके अलावा मध्य प्रदेश में बस की टक्कर से ट्रक में सवार आठ प्रवासी श्रमिकों की मौत हो गई थी।

Advertisement

औरंगाबाद में 16 लोगों की मौत हुई थी
औरंगाबाद की घटना किसे याद नहीं होगी। पिछले हफ्ते ही महाराष्ट्र के औरंगाबाद में एक मालगाड़ी की चपेट में आने से रेल पटरियों पर सो रहे 16 प्रवासी मजदूरों की मौत हो गई थी। सभी प्रवासी मजदूर अपने गृहराज्य मध्य प्रदेश लौटने के लिए श्रमिक विशेष ट्रेन में सवार होने के लिए महाराष्ट्र के जालना से भुसावल जा रहे थे। रास्ते में थकान के कारण वे रेल पटरियों पर ही सो गए थे।

वहीं उत्तर प्रदेश के पूर्व सीएम अखिलेश यादव ने मजदूरों की मौत पर बीजेपी सरकार को घेरते हुए मृतकों को 10 लाख रुपए की राशि प्रदान करने की बात कही। अखिलेश यादव ने कहा,

घर लौट रहे प्रवासी मज़दूरों के मारे जाने की ख़बरें दिल दहलानेवाली हैं। मूलत: ये वो लोग हैं जो घर चलाते थे। इसलिए समाजवादी पार्टी प्रदेश के प्रत्येक मृतक के परिवार को 1 लाख रु की मदद पहुँचाएगी। नैतिक ज़िम्मेदारी लेते हुए निष्ठुर भाजपा सरकार भी प्रति मृतक 10 लाख रु की राशि दे.

Advertisement

Advertisement

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

x

Subscribe Now

You have successfully subscribed to the newsletter

There was an error while trying to send your request. Please try again.

ख़बर खर्ची will use the information you provide on this form to be in touch with you and to provide updates and marketing.