सर्दियों में लोग क्यों हो जाते हैं माटापे का शिकार, इन उपायों से पाएं निजात | ख़बर खर्ची

सर्दियों में लोग क्यों हो जाते हैं माटापे का शिकार, इन उपायों से पाएं निजात

winter home remedies for lose weight in hindi, Home Remedies for Obesity, weight loss home remedies, weight loss, belly fat, abdominal fat, weight loss process, weight problems,  home remedies for weight loss, weight loss home remedies in hindi, ananas for weight loss in hindi, ananas health benefits, weight problems in people, सर्दी में वजन का बढ़ना, इन घरेलू उपचार से कम करें वजन, मोटापा कम करें,

खाने के शौकिन लोगों के लिए सर्दी का मौसम काफी मुफिद होता है। वे मन मुताबिक कुछ भी खा पचा लेते हैं। इस मौसम में व्यंजनों की लिस्ट में कई नाम जुड़ जाते हैं। जैसे गाजर का हलवा, आलू और गोभी के पराठे। नास्ते से लेकर डिनर तक में ऐसे ही व्यंजनों का सेवन करने और कम धूप लेने से मोटापे में इजाफा हो सकता है। हाई ब्लड प्रेशर, गठिया, मधुमेह और अस्थमा जैसी गंभीर बीमारियों का खतरा भी बढ़ता है। ऐसे में इस ठंड में आपका वजन तेजी से न भागे इसके लिए कुछ टिप्स को फॉलो करना असरदार हो सकता है। ऐसे में घर में ही कुछ उपाय कर इनसे छुटकारा पाया जा सकता है।

सर्दियों में अधिकांश लोगों का वजन काफी तेजी से बढ़ता है। रिसर्च के अनुसार, इस मौसम में खानपान में बदलाव और धूप की कमी के कारण वजन बढ़ना स्वाभाविक है। मोटापे के साथ ही पेट की चर्बी भी बहुत तेजी से बढ़ती है। ठंड के मौसम में चर्बी कम करना अपने आप में एक मुश्किल काम है।

Advertisement
  • सर्दियों में वजन और बेली फैट को नियंत्रित रखने के लिए अधिक मात्रा में मौसमी फल और सब्जियों का सेवन करना चाहिए। इनमें कम मात्रा में कैलोरी लेकिन अधिक मात्रा में फाइबर पाए जाते हैं। इसके साथ ही विटामिन, खनिज और दूसरे एसेंशियल एंटीऑक्सीडेंट भी पाए जाते हैं, जो इम्यून सिस्टम को मजबूत रखते हैं। जिससे पाचन क्रिया बेहतर होती है और वजन नहीं बढ़ता है।
  • वजन बढ़ने से रोकने के लिए कम कैलोरी का सेवन करना जरूरी होता है। ठंड के मौसम में अपने आहार में अखरोट, बीज, बींस, अनाज, दालें, अंडा, लीन मीट और मछली शामिल करना चाहिए। इनका सेवन करने से मेटाबोलिज्म बढ़ता है और लंबे समय तक भूख नहीं लगती है। प्रोटीन युक्त डाइट आपको मीठे और जंक फूड खाने से भी रोकती है। यह शरीर में प्रोटीन की भरपाई करती है और वजन घटाने में मदद करती है।
  • क्या नहीं करना चाहिए
  • कम लें स्ट्रेस: ज्यादा तनाव लेने से शरीर में स्ट्रेस हार्मोन बढ़ने लगता है। जिस कारण शरीर का वजन बढ़ने लगता है। ऐसे में लोगों को कम तनाव लेना चाहिए।
  • डाइट पर करें कंट्रोल: इस मौसम में लोगों की जीवनशैली में खासा परिवर्तन होता है। इस दौरान लोग कई बार ऐसी चीज भी खाने लगते हैं जिससे उनका वजन बढ़ने लग जाता है। ऐसे में वजन कम करने के लिए पोषक तत्वों का भरपूर उपयोग करें। ज्यादा से ज्यादा बैलेंस्ड डाइट लें। ज्यादा खाने की बजाय कुछ देर के अंतराल पर थोड़ा-थोड़ा खाएं।
  • हेल्दी फूड्स चुनें: लगातार एक ही तरह के भोजन को खाने से लोग ऊब जाते हैं, ऐसे में हेल्दी विकल्प को चुना जरूरी है। अगर मीठा खाने का मन करे तो चॉकलेट की बजाय मुट्ठी भर ड्राय फ्रूट्स खाएं। इनमें ओमेगा 3 फैटी एसिड्स मौजूद होते हैं जो क्रेविंग दूर करने में कारगर हैं।
  • डिब्बाबंद फूड से परहेज करेंः लोग अब खाने पीने की चीजें भी ऑनलाइन मंगाने लगे हैं। इन प्रोडक्ट्स में अधिक मात्रा में शुगर, सोडियम और सैचुरेटेड फैट होता है जिससे पेट में सूजन हो सकती है। जिस कारण हृदय रोग, मोटापा, टाइप 2 डायबिटीज जैसी कई स्वास्थ्य समस्याएं हो सकती हैं। ऐसे में वजन को बढ़ने से रोकने के लिए प्रोसेस्ड और डिब्बाबंद फूड से परहेज करना चाहिए। इससे सर्दियों में आपका बेली फैट नहीं बढ़ेगा।
  • मोटापे से मुक्ति के लिए पत्तागोभी का सेवन करेंः (Cabbage: Home Remedy for Obesity in Hindi)- भोजन में पत्तागोभी का ज्यादा से ज्यादा इस्तेमाल करें। इसे उबालकर या सलाद के रूप में प्रयोग कर सकते हैं। इसमें मौजूद टैरटेरिक एसिड (Tartaric Acid) शरीर में मौजूद कार्बोहाइड्रेट (Carbohydrate) को वसा में परिवर्तित नहीं होने देता। इसलिए वजन कम करने में सहायता मिलती है।
  • एक चौथाई कप रसभरी या खीरे का सलाद या एक गिलास छाछ और एक केला। और मल्टीग्रेन बिस्कुट के दो टुकड़ों के साथ 1 कप ग्रीन टी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

x

Subscribe Now

You have successfully subscribed to the newsletter

There was an error while trying to send your request. Please try again.

ख़बर खर्ची will use the information you provide on this form to be in touch with you and to provide updates and marketing.