Advertisement

UP Crime: छत पर सो रही तीन दलित बहनों पर युवक ने फेंका तेजाब, अस्पताल में भर्ती

साथ में सोए होने के कारण रासायनिक पदार्थ उसकी दो छोटी बहनें कोमल (7) व मुस्कान (5) भी क्रमशः बीस तथा सात-आठ फीसद झुलस गईं।


गोंडाः जिले के परसपुर थाना क्षेत्र के पसका गांव में सोमवार रात एक घर की छत पर सो रही दलित परिवार की तीन नाबालिग लड़कियां रासायनिक पदार्थ फेंके जाने से झुलस गईं। पुलिस के एक अधिकारी ने मंगलवार को बताया कि तीनों को उपचार के लिए जिला चिकित्सालय में भर्ती कराया गया है। पुलिस अधीक्षक (एसपी) शैलेश कुमार पाण्डेय ने आज यहां बताया, “सोमवार की रात एक घर की छत पर तीन नाबालिग लड़कियां एक साथ सो रही थीं। सोते समय किसी अज्ञात व्यक्ति द्वारा बड़ी लड़की खुशबू (17) को लक्ष्य करते हुए कोई रासायनिक पदार्थ फेंक दिया गया, जिससे वह करीब तीस फीसद झुलस गई। वहीं, एसिड विक्टिम के पिता ने कहा कि उन्हें पुलिस की कार्रवाई पर कोई भरोसा नहीं है। उन्होंने कैमरे के सामने रोते हुए कहा कि वह सुबह की घटना से अनजान हैं. किसी से कोई निजी दुश्मनी नहीं थी। अब तक कोई एफआईआर नहीं लिखी गई है।

साथ में सोए होने के कारण रासायनिक पदार्थ उसकी दो छोटी बहनें कोमल (7) व मुस्कान (5) भी क्रमशः बीस तथा सात-आठ फीसद झुलस गईं। तीनों को आनन-फानन में उपचार के लिए जिला चिकित्सालय लाया गया, जहां इलाज चल रहा है।” उन्होंने बताया कि डाक्टरों के अनुसार, तीनों की हालत खतरे से बाहर है। एसपी ने बताया कि विशेषज्ञों की टीम द्वारा रासायनिक पदार्थ का परीक्षण किया जा रहा है।

Advertisement

मामले की जानकारी मिलते ही स्थानीय पुलिस के साथ वरिष्ठ पुलिस अधिकारी, फारेंसिक टीम व श्वान दल के साथ मौके पर पहुंचे और घटना स्थल का जायजा लिया। एसपी ने कहा कि किस रसायनिक पदार्थ से हमला किया गया इसके बारे में अभी कोई सटीक जानकारी नहीं है। उन्होंने बताया कि आसपास के ही किसी व्यक्ति द्वारा इस जघन्य घटना को अंजाम दिए जाने की आशंका है। अज्ञात के विरुद्ध मुकदमा दर्ज कर पुलिस मामले की जांच कर रही है।

नौकरी छूटने के बाद प्रवासी मजदूर ने की खुदकुशी Migrant worker commits suicide after leaving job

गौतमबुद्ध नगर में बीते 24 घंटों के दौरान अलग-अलग घटनाओं में पांच लोगों द्वारा खुदकुशी किये जाने के मामले सामने आए हैं। पुलिस ने यह जानकारी दी। अधिकारियों ने बताया कि थाना सेक्टर-49 क्षेत्र के बरौला गांव में रहने वाले उमा शंकर महतो (30 वर्ष) ने अपने घर पर पंखे से फंदा लगाकर आत्महत्या कर ली। वह मूल रूप से बिहार के छपरा का रहने वाला था। महतो के रिश्तेदार ने घटना की सूचना पुलिस को दी। उन्होंने बताया कि मरने से पूर्व उमाशंकर ने एक सुसाइड नोट लिखा है, जिसमें उसने नौकरी छूटने की वजह से तनाव में होने का जिक्र किया है।

Advertisement

अधिकारी ने बताया कि एक अन्य मामले में थाना सेक्टर-20 क्षेत्र के निठारी गांव में अपने दोस्त के यहां रहने आए दिल्ली निवासी अविनाश सूरी ने मंगलवार को पंखे से फंदा लगाकर आत्महत्या कर लिया। उन्होंने बताया कि मृतक के दोस्त तिलक ने थाना सेक्टर 20 पुलिस को घटना की सूचना दी है। पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है। उन्होंने बताया कि थाना जारचा क्षेत्र के एनटीपीसी विद्युत नगर में रहने वाली प्रियंका कश्यप नामक युवती ने कथित तौर पर मानसिक तनाव के चलते बीती रात को अपने घर पर पंखे से फंदा लगाकर आत्महत्या कर लिया। घटना की सूचना पाकर मौके पर पहुंची पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है। मामले की जांच की जा रही है।

अधिकारियों ने बताया कि थाना कासना क्षेत्र के सिरसा के पास साइकिल की दुकान चलाने वाले सूरजपाल पुत्र मुंशी सिंह ने कर्ज की वजह से परेशान होकर इकोटेक औद्योगिक क्षेत्र में स्थित एक पेड़ से लटककर बीती रात को आत्महत्या कर लिया। उन्होंने कथित तौर पर एक सुसाइड नोट लिखा है, जिसमें उन्होंने इस बात पर का जिक्र किया है, कि वह बढ़ते कर्ज से काफी परेशान थे। एक अन्य मामले में थाना बीटा-2 क्षेत्र में रहने वाली नाबालिग किशोरी ने बीती रात को अपने घर पर पंखे से फंदा लगाकर आत्महत्या कर ली। उन्होंने बताया कि पुलिस मामले की जांच कर रही है।

Advertisement
ख़बर खर्ची:
Related Post