'मैं मरने ही वाला था, नाक मुंह से खून आ रहे थे..', संजय दत्त ने बताई ड्रग्स के दिनों की दर्दनाक कहानी | ख़बर खर्ची

‘मैं मरने ही वाला था, नाक मुंह से खून आ रहे थे..’, संजय दत्त ने बताई ड्रग्स के दिनों की दर्दनाक कहानी

Sanjay dutt drugs, Sanjay Dutt, Sanju, Rajkumar Hirani,Sanju on drugs, Sanju film, Sanjay dutt style,  Sanjay dutt drug story, suniel dutt, संजय दत्त ड्रग्स की लत, संजय दत्त नशा, संजय दत्त फिल्म,sanjay dutt birthday, sanjay dutt movie, sanjay dutt familym sanjay dutt mother, sanjay dutt wife name, sanjay dutt all movie, sanjay dutt and madhuri, the sanjay dutt story, sanjay dutt book, sanjay dutt biography, sanjay dutt biopic
sanjay dutt childhood, sanjay dutt ex wife,

‘सुबह का वक्त था और मुझे भूख लगी थी। उस वक्त मेरी मां गुजर चुकी थी। मैंने नौकर से पूछा कि मुझे भूख लगी है। खाना दे दीजिए तो उसने कहा कि बाबा दो दिन हो गए आपने खाना नहीं खाया। आप सोते रहे थे।’ बॉलीवुड के बैड बॉय कहे जाने वाले संजय दत्त की एक दफा यही स्थिति हो गई थी। ड्रग्स ने उनके खून को जहर कर दिया था। संजय दत्त अपने शरीर पर काबू नहीं कर पा रहे थे।

संजय दत्त के सामने गंभीर स्थिति पैदा हो गई थी

Advertisement

संजय दत्त आगे बताते हैं कि इसके बाद वह बाथरूम गए और अपने आप को शीशे में देखा। वह मरने की हालत में थे। बकौल संजय दत्त, मैं बाथरूम गया और अपने आपको शीशे में देखा तो मरने की हालत में था। मेरे नाक से खून निकल रहा था। मेरे मुंह से खून निकल रहा था। खुद को इस हालत में देख संजय दत्त काफी डर गए । वे अपने पिता सुनील दत्त के पास पहुंचे।

सुनील दत्त संजय दत्त के ड्रग्स लेने वाली बात से अंजना थे

Advertisement

पिता बेटे की हालत से अंजान थे। साथ में उनके ड्रग्स लेने की बात से भी नावाकिफ थे। सुबह सात बजे जब वह दत्त साहब के पास पहुंचे और अपने ड्रग्स लेने की बात बताई। संजय दत्त बताते हैं कि वह एक लकी इंसान थे कि उनके पिता यहां(भारत) से अमेरिका ले गए। वहां के ड्रग्स केयर सेंटर में 2 साल का वक्त गुजारा। लेकिन पहले साल लगा कि एक सूट्टा और मारा जाए। उस वक्त संभल गए और बोले ना कभी ड्रग्स करूंगा ना ही करने दूंगा।

लेना पड़ा था कठोर फैसला

Advertisement

वीडियो में संजय दत्त आगे बताते हैं कि जब वह अमेरिका से देश वापस आए तो उनका पुराना ड्रग्स पेडलर दोबारा मिलने आ गया। दरवाजे पर कोई आदमी आया और बोला कि तुमसे कोई मिलने आया है। सुबह के सात बजे थे। जब मिलने गया तो देखा जो ड्रग्स पेडलर थो वो मिलने आया था। वो ड्रग्स देते हुए कहा बाबा ये नया माल है तेरे लिए लाया हूं। ये तू रख ले फ्री में। संजय दत्त बताते हैं कि उस वक्त उनके पास सिर्फ सेंकड भर का समय था ये तय करने के लिए कि वो ड्रग्स ले कि ना लें। तब उस मुश्किल घड़ी में संजय दत्त ने ड्रग्स ना लेना और जिंदगी में कभी ना करने का फैसला लिया।

Advertisement

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

x