Advertisement

सारी बाधा पार कर दिल्ली सीमा पर पहुंचे किसान, रवीश कुमार ने कहा- आपदा के बहाने लाया गया कानून

रवीश कुमार ने आगे कहा कि भारत ही नहीं भारत के बाहर भी पंजाब के किसान परिवार इस बिल के विरोध में हैं जबकि उन्हें दुनिया का भी पता है।

Advertisement
रवीश कुमार। फोटोः सोशल मीडिया

कृषि बिल को लेकर देश के कई राज्यों के किसान केंद्र सरकार से खफा हैं। खासकर पंजाब और हरियाणा के किसान कृषि कानून का पुरजोर विरोध कर रहे हैं। इसी विरोध को जताने और सरकार द्वारा उनकी मांगों पर ध्यान देने के बाबत वे दिल्ली कूच कर रहे हैं, जिसको लेकर केंद्र सरकार ने दिल्ली की सभी सीमाओं पर सुरक्षा बढ़ाने के साथ ही राजधानी में किसानों की एंट्री ना हो, इसके लिए जवानों की तैनाती भी कर दी गई है।

किसानों को लेकर केंद्र सरकार के रवैए को लेकर एनडीटीवी के वरिष्ठ पत्रकार रवीश कुमार ने एक फेसबुक पोस्ट किया है जो काफी वायरल हो रहा है। इस पोस्ट में रवीश कुमार ने केंद्र सरकार पर आपदा के बहाने अध्यादेश के जरिए कानून बनाने का आरोप लगया है। रवीश कुमार ने कहा कि पंजाब के ही किसान हैं जो पंजाब में खेती के साथ कनाडा और दुनिया के कई देशों में खेती करते हैं। वे सब जानते हैं।

Advertisement

रवीश कुमार ने लिखा, पंजाब के किसान मंडी सिस्टम की कमियाँ भी जानते हैं और खुले बाज़ार की भी। पंजाब के गाँवों में एक बंदा खेती करता है और दूसरा कनाडा में भी खेती करता है। पंजाब के ही किसान हैं जो भारत में कई राज्यों और दुनिया के कई देशों में खेती करते है, फिर भी वे कृषि सुधार क़ानूनों का विरोध कर रहे हैं।

रवीश कुमार ने आगे कहा कि भारत ही नहीं भारत के बाहर भी पंजाब के किसान परिवार इस बिल के विरोध में हैं जबकि उन्हें दुनिया का भी पता है। देश का किसान बीस साल से खुले बाज़ार को भी देख रहा है। वो क्यों घूम फिर कर मंडी की तरफ़ लौटता है? क्यों न्यूनतम समर्थन मूल्य और लागत से ढाई गुना दाम माँग रहा है? कब तक नहीं दिया जाएगा ? आपदा के बहाने अध्यादेश के ज़रिए क़ानून लाया गया। फिर जो राज्य सभा में हुआ उसे सबने देखा। और अब, किसान दिल्ली न आ सकें इसके लिए सड़कों को खोदा जा रहा है। कमाल है न ।

Advertisement

गौरतलब है कि सोनीपत के हल्दाना बॉर्डर पर बुधवार की रात 11 बजे से किसान डटे हुए हैं। इस दौरान किसानों ने बार-बार बेरिकेड तोड़ने का प्रयास किया। रात में ही किसानों पर पुलिस ने वाटर कैनन का इस्तेमाल किया। शुक्रवार सुबह बड़ी तादाद में किसान एक बार फिर दिल्ली बॉर्डर पर जुटने शुरू हुए।

वहीं पंजाब से जुड़े सीमावर्ती जिलों से लगातार किसानों का काफिला दिल्ली को कूच रहा है। सोनीपत में राजीव गांधी एजुकेशन सिटी तक किसान पहुंच गए हैं। यहां वे पत्थर हटाते रहे और पुलिस खड़े देखते रही। दिल्ली के सिंघु बॉर्डर एक तरफ किसान का काफिला है तो दूसरी तरफ दिल्ली पुलिस खड़ी है। वहीं सूचना है कि किसान कुंडली तक पहुंच चुके हैं।

Advertisement
ख़बर खर्ची

Share

Recent Posts

भाजपा का सिर शर्म से झुक जाना चाहिए, नुपुर शर्मा को लेकर न्यायालय की टिप्पणी पर कांग्रेस

पार्टी महासचिव जयराम रमेश ने एक बयान में यह भी कहा कि उच्चतम न्यायालय की…

3 months ago

आपको टीवी पर जाकर पूरे देश से माफी मांगनी चाहिए, नूपुर शर्मा को सुप्रीम कोर्ट की कड़ी फटकार

न्यायालय ने नुपुर शर्मा को अपनी इस टिप्पणी के लिए देश से माफी मांगने को…

3 months ago

अकेले अग्निवीर पूरी आर्मी कभी नहीं होंगे, Agnipath पर बोले अजीत डोभाल-रेजिमेंट की अवधारणा खत्म …

अग्निपथ योजना को लेकर हो रहे विरोध पर अजीत डोभाल ने कहा कि जहां तक…

3 months ago

Agnipath Scheme से दुनिया की सबसे बेहतरीन फौज दोयम दर्जे की हो जाएगी, पूर्व मेजर जनरल ने योजना को बताया त्रासदी

पी के सहगल ने सेना में नियुक्ति की नयी अल्पकालिक 'अग्निपथ योजना' को सेना के…

3 months ago

KGF Chapter 2 full movie leaked: यश स्टारर केजीएफ 2 को तमिलरॉकर्स ने किया लीक, ऐसे देखें HD वीडियो

श का स्वैग, प्रशांत नील का निर्देशन, ताली बजाने योग्य संवाद, आश्चर्यजनक एक्शन सेट-पीस और…

6 months ago

यूपीः महोबा के SBI की शाखा में लगी भीषण आग, तमाम दस्तावेज जलकर खाक

बैंक अधिकारी इस घटना की पड़ताल कर रहे हैं। सीओ ने बताया कि प्रथमदृष्टया ऐसा…

7 months ago