सारी बाधा पार कर दिल्ली सीमा पर पहुंचे किसान, रवीश कुमार ने कहा- आपदा के बहाने लाया गया कानून | ख़बर खर्ची

सारी बाधा पार कर दिल्ली सीमा पर पहुंचे किसान, रवीश कुमार ने कहा- आपदा के बहाने लाया गया कानून


ravish kumar, farmer protest, ravish kumar prime time video, punjab farmer protest, delhi chalo protest, ravish kumar on farmers protest to delhi, delhi farmers protest, punjab farmer protest live news, farmers protest in delhi, farmers protest in punjab, farmer protest in haryana, farmer protest today, farmer protest latest news, farmers protest, farmers protest today, farm bill, farm bill news, farm bill latest news, farmers protest in haryana, ravish kumar post, FB post, social media, khabar kharchi,
रवीश कुमार। फोटोः सोशल मीडिया

कृषि बिल को लेकर देश के कई राज्यों के किसान केंद्र सरकार से खफा हैं। खासकर पंजाब और हरियाणा के किसान कृषि कानून का पुरजोर विरोध कर रहे हैं। इसी विरोध को जताने और सरकार द्वारा उनकी मांगों पर ध्यान देने के बाबत वे दिल्ली कूच कर रहे हैं, जिसको लेकर केंद्र सरकार ने दिल्ली की सभी सीमाओं पर सुरक्षा बढ़ाने के साथ ही राजधानी में किसानों की एंट्री ना हो, इसके लिए जवानों की तैनाती भी कर दी गई है।

किसानों को लेकर केंद्र सरकार के रवैए को लेकर एनडीटीवी के वरिष्ठ पत्रकार रवीश कुमार ने एक फेसबुक पोस्ट किया है जो काफी वायरल हो रहा है। इस पोस्ट में रवीश कुमार ने केंद्र सरकार पर आपदा के बहाने अध्यादेश के जरिए कानून बनाने का आरोप लगया है। रवीश कुमार ने कहा कि पंजाब के ही किसान हैं जो पंजाब में खेती के साथ कनाडा और दुनिया के कई देशों में खेती करते हैं। वे सब जानते हैं।

Advertisement

रवीश कुमार ने लिखा, पंजाब के किसान मंडी सिस्टम की कमियाँ भी जानते हैं और खुले बाज़ार की भी। पंजाब के गाँवों में एक बंदा खेती करता है और दूसरा कनाडा में भी खेती करता है। पंजाब के ही किसान हैं जो भारत में कई राज्यों और दुनिया के कई देशों में खेती करते है, फिर भी वे कृषि सुधार क़ानूनों का विरोध कर रहे हैं।

रवीश कुमार ने आगे कहा कि भारत ही नहीं भारत के बाहर भी पंजाब के किसान परिवार इस बिल के विरोध में हैं जबकि उन्हें दुनिया का भी पता है। देश का किसान बीस साल से खुले बाज़ार को भी देख रहा है। वो क्यों घूम फिर कर मंडी की तरफ़ लौटता है? क्यों न्यूनतम समर्थन मूल्य और लागत से ढाई गुना दाम माँग रहा है? कब तक नहीं दिया जाएगा ? आपदा के बहाने अध्यादेश के ज़रिए क़ानून लाया गया। फिर जो राज्य सभा में हुआ उसे सबने देखा। और अब, किसान दिल्ली न आ सकें इसके लिए सड़कों को खोदा जा रहा है। कमाल है न ।

Advertisement

गौरतलब है कि सोनीपत के हल्दाना बॉर्डर पर बुधवार की रात 11 बजे से किसान डटे हुए हैं। इस दौरान किसानों ने बार-बार बेरिकेड तोड़ने का प्रयास किया। रात में ही किसानों पर पुलिस ने वाटर कैनन का इस्तेमाल किया। शुक्रवार सुबह बड़ी तादाद में किसान एक बार फिर दिल्ली बॉर्डर पर जुटने शुरू हुए।

वहीं पंजाब से जुड़े सीमावर्ती जिलों से लगातार किसानों का काफिला दिल्ली को कूच रहा है। सोनीपत में राजीव गांधी एजुकेशन सिटी तक किसान पहुंच गए हैं। यहां वे पत्थर हटाते रहे और पुलिस खड़े देखते रही। दिल्ली के सिंघु बॉर्डर एक तरफ किसान का काफिला है तो दूसरी तरफ दिल्ली पुलिस खड़ी है। वहीं सूचना है कि किसान कुंडली तक पहुंच चुके हैं।

Advertisement

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

x