Advertisement

दीवाली पर घरौंदा बनाने की क्या है पौराणिक मान्यता, जानें सबकुछ

घरौंदा को सजाने के लिए कुल्हिया चुकिया का प्रयोग किया जाता है। और अविवाहित लड़कियां इसमें फरही, मिष्टान्न आदि भरती हैं।

Advertisement
घरौंदा को सजाने के लिए कुल्हिया चुकिया का प्रयोग किया जाता है।

दीवाली दस्तक दे चुकी है। भारतीय संस्कृति में यह पर्व खास महत्व रखता है। रौशनी के इस पर्व के दौरान लोगबाग अपने घरों, दुकानों की साफ-सफाई करते हैं और रंग-रोगना कर मां लक्ष्मी और भगवान गणेश की प्रतिमा का प्रतिष्ठान करते हैं। मान्यता है कि रौशनी के इस पर्व पर घरों में रंगोली और घरौंदा बनाने पर घर में सुख समृद्धि का वास होता है।

कार्तिक मास प्रारंभ होते ही सभी घरों में साफ-सफाई का काम शुरू हो जाता है। यह महीना दीपावली के आगमन का होता है। इस दौरान जहां घरों में रंग रोगन का काम होता है वहीं घर के बच्चे घरौंदा भी बनाते हैं। घरौंदा ‘घर’ शब्द से बना है और सामान्य तौर पर दीपावली के अवसर पर अविवाहित लड़कियां घरौंदा का निर्माण करती हैं ताकि उनका घर भरापूरा रहे। घरौंदा को भोजपुरी में मटकोठा भी कहा जाता है। यानी माटी का कोठा।

Advertisement

घरौंदे का क्या है पौराणिक मान्यता और महत्वः

पौराणिक मान्यताओं के अनुसार भगवान राम ने चौदह वर्ष के वनवास के बाद कार्तिक मास की अमावस्या के दिन अयोध्या लौटे तब उनके आगमन की खुशी में नगरवासियों ने घरों में दीपक जलाकर उनका स्वागत किया। उसी समय से दीपावली मनाए जाने की परम्परा चली आ रही है। अयोध्यावासियों का मानना था कि श्रीराम के आगमन से ही उनकी नगरी फिर बसी है। इसी को देखते हुए लोगों में घरौंदा बनाकर उसे सजाने का प्रचलन हुआ।

दीवाली पर घरौंदा बनाने के लिए इन चीजों का होता है प्रयोगः

बता दें, घरौंदा को सजाने के लिए कुल्हिया चुकिया का प्रयोग किया जाता है। और अविवाहित लड़कियां इसमें फरही, मिष्टान्न आदि भरती हैं। इसके पीछे की मान्यता यह है कि जब कभी भविष्य में वह दाम्पत्य जीवन में प्रवेश करेंगी तो उनका संसार भी सुख-समृद्धि से भरा रहेगा। मजेदार बात यह है कि कुल्हिया चुकिया में भरे अन्न का प्रयोग वह स्वयं नहीं करती हैं और अपने भाई को खिलाती हैं।

Advertisement

घरौंदा बनाने से घर में आती है सुख-समृद्धि

मान्यता है कि घरौंदा बनाने से घर में सुख-समृद्धि आती है। यह अलग बात है कि घरौंदा बनाना कम हो चला है और बाजार में लकड़ी और प्लास्टिक का घरौंदा उपलब्ध हो जाता है लेकिन बच्चों में इस बात की होड़ लगी रहती है कि मम्मी के घर से उम्दा उनका घरौंदा हो। आजकल बाजार में रेडिमेड घरौंदा भी बिकने लगा है। बाजार में थर्माकोल से बने घरौंदे भी प्रचुर मात्रा में बिक रहे हैं।

Advertisement
ख़बर खर्ची

Share

Recent Posts

खुशखबरी: एक क्लिक पर Paytm ग्राहक पायें 2 लाख रुपए, जानिए कैसे?

अगर आप ये लोन लेते हैं तो paytm इसको चुकाने के लिए 18-36 महीने तक…

16 mins ago

यूपी में बेक़ाबू हुई कोरोना की दूसरी लहर, सरकार ने लाए सख़्त नियम

कोरोना के रविवार को आए आंकड़ों में 15,353 लोगों को कोरोना वायरस की पुष्टि हुई…

4 hours ago

महाविद्रोही राहुल सांकृत्यायन की जयंती पर पढ़िए उनके बेहतरीन उद्धरण

आज विद्राेही राहुल सांकृत्यायन का जन्मदिवस है। राहुल सांकृत्यायन सच्चे अर्थों में जनता के लेखक…

3 days ago

वाराणसी: 11वीं के छात्र ने बनाया अजूबा बैग, कोरोना सुरक्षा से लेकर गुमशुदगी तक का करेगा रिपोर्ट

वाराणसी के आर्यन इंटरनेशनल स्कूल में पढ़ने वाले पुष्कर ने बताया कि, "कोरोना के बढ़…

3 days ago

अमित शाह अपने आप में एक देश बन गए हैं जिन पर कोरोना के क़ानून लागू नहीं होतेः रवीश कुमार

क्या चुनाव आयोग अमित शाह पर कार्रवाई कर सकता है? इस सवाल को पूछ कर…

4 days ago

हिंदी मीडियम वाले गांव के लड़कों के लिए बॉलीवुड की राह आसान नहीं, पंकज त्रिपाठी ने बयां किया दर्द

पंकज त्रिपाठी ने कहा कि इंडस्‍ट्री में आउटसाइडर्स की सफलता की राह इतनी आसान नहीं…

4 days ago