Advertisement

दीवाली पर घरौंदा बनाने की क्या है पौराणिक मान्यता, जानें सबकुछ

घरौंदा को सजाने के लिए कुल्हिया चुकिया का प्रयोग किया जाता है। और अविवाहित लड़कियां इसमें फरही, मिष्टान्न आदि भरती हैं।

Advertisement
घरौंदा को सजाने के लिए कुल्हिया चुकिया का प्रयोग किया जाता है।

दीवाली दस्तक दे चुकी है। भारतीय संस्कृति में यह पर्व खास महत्व रखता है। रौशनी के इस पर्व के दौरान लोगबाग अपने घरों, दुकानों की साफ-सफाई करते हैं और रंग-रोगना कर मां लक्ष्मी और भगवान गणेश की प्रतिमा का प्रतिष्ठान करते हैं। मान्यता है कि रौशनी के इस पर्व पर घरों में रंगोली और घरौंदा बनाने पर घर में सुख समृद्धि का वास होता है।

कार्तिक मास प्रारंभ होते ही सभी घरों में साफ-सफाई का काम शुरू हो जाता है। यह महीना दीपावली के आगमन का होता है। इस दौरान जहां घरों में रंग रोगन का काम होता है वहीं घर के बच्चे घरौंदा भी बनाते हैं। घरौंदा ‘घर’ शब्द से बना है और सामान्य तौर पर दीपावली के अवसर पर अविवाहित लड़कियां घरौंदा का निर्माण करती हैं ताकि उनका घर भरापूरा रहे। घरौंदा को भोजपुरी में मटकोठा भी कहा जाता है। यानी माटी का कोठा।

Advertisement

घरौंदे का क्या है पौराणिक मान्यता और महत्वः

पौराणिक मान्यताओं के अनुसार भगवान राम ने चौदह वर्ष के वनवास के बाद कार्तिक मास की अमावस्या के दिन अयोध्या लौटे तब उनके आगमन की खुशी में नगरवासियों ने घरों में दीपक जलाकर उनका स्वागत किया। उसी समय से दीपावली मनाए जाने की परम्परा चली आ रही है। अयोध्यावासियों का मानना था कि श्रीराम के आगमन से ही उनकी नगरी फिर बसी है। इसी को देखते हुए लोगों में घरौंदा बनाकर उसे सजाने का प्रचलन हुआ।

दीवाली पर घरौंदा बनाने के लिए इन चीजों का होता है प्रयोगः

बता दें, घरौंदा को सजाने के लिए कुल्हिया चुकिया का प्रयोग किया जाता है। और अविवाहित लड़कियां इसमें फरही, मिष्टान्न आदि भरती हैं। इसके पीछे की मान्यता यह है कि जब कभी भविष्य में वह दाम्पत्य जीवन में प्रवेश करेंगी तो उनका संसार भी सुख-समृद्धि से भरा रहेगा। मजेदार बात यह है कि कुल्हिया चुकिया में भरे अन्न का प्रयोग वह स्वयं नहीं करती हैं और अपने भाई को खिलाती हैं।

Advertisement

घरौंदा बनाने से घर में आती है सुख-समृद्धि

मान्यता है कि घरौंदा बनाने से घर में सुख-समृद्धि आती है। यह अलग बात है कि घरौंदा बनाना कम हो चला है और बाजार में लकड़ी और प्लास्टिक का घरौंदा उपलब्ध हो जाता है लेकिन बच्चों में इस बात की होड़ लगी रहती है कि मम्मी के घर से उम्दा उनका घरौंदा हो। आजकल बाजार में रेडिमेड घरौंदा भी बिकने लगा है। बाजार में थर्माकोल से बने घरौंदे भी प्रचुर मात्रा में बिक रहे हैं।

Advertisement
ख़बर खर्ची

Share

Recent Posts

KGF Chapter 2 full movie leaked: यश स्टारर केजीएफ 2 को तमिलरॉकर्स ने किया लीक, ऐसे देखें HD वीडियो

श का स्वैग, प्रशांत नील का निर्देशन, ताली बजाने योग्य संवाद, आश्चर्यजनक एक्शन सेट-पीस और…

3 weeks ago

यूपीः महोबा के SBI की शाखा में लगी भीषण आग, तमाम दस्तावेज जलकर खाक

बैंक अधिकारी इस घटना की पड़ताल कर रहे हैं। सीओ ने बताया कि प्रथमदृष्टया ऐसा…

2 months ago

दिग्गज ऑफ स्पिनर हरभजन सिंह ने क्रिकेट के सभी प्रारूपों से लिया संन्यास

हरभजन ने 1998 में शारजाह में न्यूजीलैंड के खिलाफ एकदिवसीय मैच से अंतरराष्ट्रीय पदार्पण किया…

5 months ago

यूपी में शनिवार से कोरोना कर्फ्यू, रात 11 बजे से सुबह पांच बजे तक प्रभावी रहेगा, शादियों में 200 से ज्यादा लोग नहीं

मुख्यमंत्री ने निर्देश दिया कि शनिवार 25 दिसंबर से प्रदेशव्यापी रात्रिकालीन कोरोना कर्फ्यू प्रभावी किया…

5 months ago

सरकार अब दो साल तक रखेगी आपके कॉल डेटा, इंटरनेट के इस्तेमाल संबंधी रिकॉर्ड, जानिए

लाइसेंस में संशोधन 21 दिसंबर को जारी किए गए थे और 22 दिसंबर को इनका…

5 months ago