Advertisement

Navratri 2020: नवरात्रि में 58 साल बाद बन रहा ये बड़ा संयोग, जानें शुभ मुहूर्त और पूजा विधि

नवरात्रि का पर्व देवी शक्ति मां दुर्गा की उपासना का उत्सव है। नवरात्रि के नौ दिनों में देवी शक्ति के नौ अलग-अलग रूप की पूजा-आराधना…

Advertisement

नवरात्रि कब है? नवरात्रि का पावन त्योहार 17 अक्तूबर से शुरू हो जाएगा। आश्विन मास के शुक्ल पक्ष की प्रतिपदा तिथि से शुरू होने जा रहे नवरात्रों में मां दुर्ग के नौ स्वरूपों की पूजा होगी। शास्त्रों में मां दुर्गा को शक्ति की देवी बताया गया है। इसलिए इसे शक्ति की उपासना का पर्व की कहा जाता है। नवरात्र में नौ दिनों तक व्रत किये जाते हैं। नवरात्रि का हर दिन मां दुर्गा के अलग-अलग स्वरूपों को समर्पित होता है। ज्योतिषविदों का कहना है कि नवरात्रि में इस बार 58 साल बाद एक बेहद शुभ संयोग (Shubh sanyog) भी बनने जा रहा है। मान्यता है कि नवरात्र के व्रत रखने वालों को मां दुर्गा का आशीर्वाद मिलता है और उनके सभी संकट दूर हो जाते हैं। माता रानी उनकी सारी मनोकामनाएं पूर्ण करती हैं। ज्योतिषों के मुताबिक, इस बार नवरात्रि में पूरे 58 साल बाद शनि (Shani) स्वराशि मकर और गुरु (Guru) स्वराशि धनु में रहेंगे। साथ ही साथ इस बार घटस्थापना पर भी विशेष संयोग बन रहा है। ये महासंयोग (Mahasanyog) कई लोगों को झोली खुशियों से भर सकते हैं।

When And Why is navratri celebrated: नवरात्रि का पर्व देवी शक्ति मां दुर्गा की उपासना का उत्सव है। नवरात्रि के नौ दिनों में देवी शक्ति के नौ अलग-अलग रूप की पूजा-आराधना की जाती है। एक वर्ष में पांच बार नवरात्र आते हैं, चैत्र, आषाढ़, अश्विन, पौष और माघ नवरात्र। इनमें चैत्र और अश्विन यानि शारदीय नवरात्रि को ही मुख्य माना गया है। इसके अलावा आषाढ़, पौष और माघ गुप्त नवरात्रि होती है। शारदीय नवरात्रि अश्विन मास के शुक्ल पक्ष की प्रतिपदा से नवमी तक मनायी जाती है। शरद ऋतु में आगमन के कारण ही इसे शारदीय नवरात्रि कहा जाता है।

Advertisement

सांस्कृतिक परंपरा (Nine days of navratri)

नवरात्र में देवी शक्ति माँ दुर्गा के भक्त उनके नौ रूपों की बड़े विधि-विधान के साथ पूजा-अर्चना करते हैं। नवरात्र के समय घरों में कलश स्थापित कर दुर्गा सप्तशती का पाठ शुरू किया जाता है। नवरात्रि के दौरान देशभर में कई शक्ति पीठों पर मेले लगते हैं। इसके अलावा मंदिरों में जागरण और मां दुर्गा के विभिन्न स्वरूपों की झांकियां बनाई जाती हैं।

पौराणिक मान्यता

शास्त्रों के अनुसार नवरात्रि में ही भगवान श्रीराम ने देवी शक्ति की आराधना कर दुष्ट राक्षस रावण वध किया था और समाज को यह संदेश दिया था कि बुराई पर हमेशा अच्छाई की जीत होती है।

Advertisement

नवरात्रि पौराणिक कथा

महिषासुर नाम का एक राक्षस था। वह ब्रह्मा जी का बड़ा भक्त था। उसने तप से ब्रह्माजी को प्रसन्न किया. ब्रह्माजी प्रकट हुए और उससे वरदान मांगने को कहा। वरदान में उसने मांगा कि उसे कोई देव, दानव या पृथ्वी पर रहने वाला मनुष्य मार ना पाए। वरदान प्राप्त करते ही वह निर्दयी हो गया और तीनों लोकों में आतंक माचने लगा। आतंक से परेशान होकर देवी देवताओं ने ब्रह्मा, विष्णु, महेश के साथ मिलकर मां शक्ति के रूप में दुर्गा को जन्म दिया। मां दुर्गा और महिषासुर के बीच नौ दिनों तक भयंकर युद्ध हुआ और दसवें दिन मां ने महिषासुर का वध कर दिया. इस दिन को अच्छाई पर बुराई की जीत के रूप में मनाया जाता है।

नवरात्रि में माँ दुर्गा के नौ रूपों की पूजा का विधान

दिन 1माँ शैलपुत्री पूजा – यह देवी दुर्गा के नौ रूपों में से प्रथम रूप है। मां शैलपुत्री चंद्रमा को दर्शाती हैं और इनकी पूजा से चंद्रमा से संबंधित दोष समाप्त हो जाते हैं।
दिन 2माँ ब्रह्मचारिणी पूजा – ज्योतिषीय मान्यता के अनुसार देवी ब्रह्मचारिणी मंगल ग्रह को नियंत्रित करती हैं। देवी की पूजा से मंगल ग्रह के बुरे प्रभाव कम होते हैं।
दिन 3 माँ चंद्रघंटा पूजा – देवी चंद्रघण्टा शुक्र ग्रह को नियंत्रित करती हैं। देवी की पूजा से शुक्र ग्रह के बुरे प्रभाव कम होते हैं।
दिन 4 माँ कुष्मांडा पूजा – माँ कुष्माण्डा सूर्य का मार्गदर्शन करती हैं अतः इनकी पूजा से सूर्य के कुप्रभावों से बचा जा सकता है।
दिन 5 माँ स्कंदमाता पूजा – देवी स्कंदमाता बुध ग्रह को नियंत्रित करती हैं। देवी की पूजा से बुध ग्रह के बुरे प्रभाव कम होते हैं।
दिन 6 माँ कात्यायनी पूजा – देवी कात्यायनी बृहस्पति ग्रह को नियंत्रित करती हैं। देवी की पूजा से बृहस्पति के बुरे प्रभाव कम होते हैं।
दिन 7 माँ कालरात्रि पूजा – देवी कालरात्रि शनि ग्रह को नियंत्रित करती हैं। देवी की पूजा से शनि के बुरे प्रभाव कम होते हैं।
दिन 8 माँ महागौरी पूजा – देवी महागौरी राहु ग्रह को नियंत्रित करती हैं। देवी की पूजा से राहु के बुरे प्रभाव कम होते हैं।
दिन 9 माँ सिद्धिदात्री पूजा – देवी सिद्धिदात्री केतु ग्रह को नियंत्रित करती हैं। देवी की पूजा से केतु के बुरे प्रभाव कम होते हैं।

Advertisement

नवरात्रि में नौ रंगों का महत्व (9 Navratri Colors List With Their Significance For 2020)

नवरात्रि के समय हर दिन का एक रंग तय होता है। मान्यता है कि इन रंगों का उपयोग करने से सौभाग्य की प्राप्ति होती है।

प्रतिपदा- पीला
द्वितीया- हरा
तृतीया- भूरा
चतुर्थी- नारंगी
पंचमी- सफेद
षष्टी- लाल
सप्तमी- नीला
अष्टमी- गुलाबी
नवमी- बैंगनी

Advertisement

Advertisement
ख़बर खर्ची

Share

Recent Posts

पुण्यतिथिः ‘किशोर कुमार जैसा गायक हजार वर्ष में केवल एक ही बार जन्म लेता है’

मेरे सपनों की रानी कब आयेगी तू और रूप तेरा मस्ताना गाना किशोर कुमार ने…

3 days ago

मां चामुंडा मंदिर में पूजा करने से मिलती है कष्टों से मुक्ति, जानिए देवी की शौर्य गाथा

नवादा से लगभग 23 किलोमीटर दूर रोह-कौआकोल मार्ग पर स्थित रूपौ गांव में मां चामुंडा…

3 days ago

Petrol, Diesel Prices: फिर बढ़े वाहन ईंधन के दाम, मुंबई में डीजल का शतक

मुंबई में अब डीजल 100.29 (Petrol, Diesel Prices At All-Time Highs. Diesel Crosses ₹ 100-Mark…

7 days ago

बसपा की सरकार बनी तो बदले की भावना से रोकी नहीं जाएंगी केंद्र व राज्य की योजनाएं: मायावती

बसपा के संस्थापक कांशीराम के 15वें परिनिर्वाण दिवस पर कांशीराम स्मारक स्थल पर आयोजित श्रद्धांजलि…

7 days ago

सिसोदिया का वादाः यूपी में आप सरकार आई तो शिक्षा का बजट बढ़ाकर 25 प्रतिशत किया जाएगा

सिसोदिया का वादाः यूपी में आप सरकार आई तो शिक्षा का बजट बढ़ाकर 25 प्रतिशत…

2 weeks ago