Advertisement

मोदी Vs नेहरू काल में महामारी और जन स्वास्थ्य के हाल और देशज चिकित्सा पद्धतियां

गौरतलब बात है कि नेहरू की अध्यक्षता में राष्ट्रीय योजना समिति के अन्तर्गत 29 उप समितियों का गठन किया गया था। इन उप समितियों की रिपोर्टों ने स्वतंत्र भारत के विकास और पुनर्निर्माण की योजना का खाका तैयार करने में अहम भूमिका अदा की।

Advertisement

इतिहास में नजर डालें तो नेहरू (jawaharlal nehru) की बहुत सारी कमियां आपके सामने नजर आ सकती हैं लेकिन उनकी उपलब्धियों को नकार भी नहीं सकते हैं। जब मौजूदा हालात में देश कोरोना जैसी महामारी से जूझ रहा है और देश की अर्थव्यस्था रसातल में पहुंच चुकी है ऐसे में नेहरू काल के स्वास्थ्य सेवाओं की भी चर्चा जोरों पर है। बहुत से लोग ये जनाना चाहते हैं कि नेहरू काल में स्वास्थ्य सेवाओं का क्या हाल था?

केंद्र में मौजूदा मोदी सरकार किसी ना किसा बहाने नेहरू की कार्यनीतियों का हवाला देते हुए ना सिर्फ विपक्ष को आड़े हाथों लेती है बल्कि देश के सामने मोदी बरक्स नेहरू की बहस को भी खड़ा कर देती है।

Advertisement

बता दें नेहरू ने अपने कार्यकाल में भारत की देशज चिकित्सा पद्धतियों मसलन, आयुर्वेद, यूनानी आदि को वैज्ञानिक मानकों के अनुरूप बनाने और उनके आधुनिकीकरण पर भी ज़ोर दिया। जून 1956 में बंबई में चिकित्सकों और शल्य-चिकित्सकों की सभा को सम्बोधित करते हुए नेहरू ने कहा कि आधुनिक वैज्ञानिक पद्धतियों के अनुरूप देशज चिकित्सा पद्धतियों में सार्थक बदलाव लाने की ज़रूरत है। इसके लिए नेहरू ने वैज्ञानिक प्रयोग और अनुसंधान से प्राप्त होने वाले नतीजों पर ही भरोसा करने की बात कही।

नेहरू ने यह भी कहा कि अक्सर लोग आधुनिक चिकित्सा पद्धति को ‘पश्चिमी चिकित्सा पद्धति’ कह देते हैं, जोकि गलत है। क्योंकि आधुनिक चिकित्सा पद्धति में भारत, अरब और ग्रीक की चिकित्सा पद्धतियों और उनकी ज्ञान-परम्परा का भी समावेश हुआ है।

Advertisement

यहां गौरतलब बात है कि साल 1956 में नयी दिल्ली में अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स) की स्थापना में नेहरू की बड़ी भूमिका रही। नेहरू के प्रधानमन्त्री रहते हुए ही पुणे में राष्ट्रीय विषाणुविज्ञान संस्थान (1952), बेंगलुरु में राष्ट्रीय क्षयरोग संस्थान (1959) और दिल्ली में मौलाना आज़ाद मेडिकल कॉलेज (1959) और गोविंद वल्लभ पंत हॉस्पिटल की स्थापना हुई। वहीं साल 1958 में देशज चिकित्सा पद्धतियों के पुनरुत्थान हेतु प्रसिद्ध चिकित्सक डॉ. केएन उडुप्पा की अध्यक्षता में एक समिति भी गठित की गयी थी।

समिति ने देशज चिकित्सा पद्धति के विकास और उसकी उच्च शिक्षा व शोध सम्बन्धी अपनी रिपोर्ट अप्रैल 1959 में भारत सरकार को सौंपी। इस रिपोर्ट में दिए गये सुझावों और परामर्श ने भारत में आयुर्वेद व अन्य देशज चिकित्सा पद्धतियों के आधुनिकीकरण, शोध व विस्तार में अहम भूमिका निभाई।

Advertisement

गौरतलब बात है कि नेहरू की अध्यक्षता में राष्ट्रीय योजना समिति के अन्तर्गत 29 उप समितियों का गठन किया गया था। इन उप समितियों की रिपोर्टों ने स्वतंत्र भारत के विकास और पुनर्निर्माण की योजना का खाका तैयार करने में अहम भूमिका अदा की। इसमें एक उप-समिति राष्ट्रीय स्वास्थ्य से भी जुड़ी थी। जिसके अध्यक्ष कर्नल साहिब सिंह सोखी और डॉ. जेएस नेरुरकर थे।

स्वास्थ्य समिति ने अपनी रिपोर्ट में गरीबी, बीमारी और अक्षमता के दुष्चक्र को तोड़ने के लिए राष्ट्रीय स्वास्थ्य सेवा के निर्माण, हरेक भारतीय को समुचित चिकित्सा सुविधाएँ उपलब्ध कराने का सुझाव दिया था। शिशुओं और मातृत्व की उचित देखभाल की वकालत करने के साथ ही समिति ने स्वास्थ्य को हरेक व्यक्ति के बुनियादी अधिकार के रूप में पारिभाषित किया। इतिहासकार सुनील अमृत ने उक्त स्वास्थ्य समिति की रिपोर्ट का विश्लेषण करते हुए लिखा है कि यह रिपोर्ट ब्रिटिश भारत में स्वास्थ्य से जुड़े मुद्दे पर औपनिवेशिक दृष्टि की सीमाओं से परे जाकर सोचने का अनूठा उदाहरण पेश करती है। इस रिपोर्ट की ख़ास बात ये भी थी कि इसमें भारत की विविधता को किसी समस्या के रूप में नहीं बल्कि भारत की शक्ति के रूप में देखा गया। तो नेहरू का विजन स्वास्थ्य को लेकर काफी बड़ा था।

Advertisement
ख़बर खर्ची

Share

Recent Posts

KGF Chapter 2 full movie leaked: यश स्टारर केजीएफ 2 को तमिलरॉकर्स ने किया लीक, ऐसे देखें HD वीडियो

श का स्वैग, प्रशांत नील का निर्देशन, ताली बजाने योग्य संवाद, आश्चर्यजनक एक्शन सेट-पीस और…

4 weeks ago

यूपीः महोबा के SBI की शाखा में लगी भीषण आग, तमाम दस्तावेज जलकर खाक

बैंक अधिकारी इस घटना की पड़ताल कर रहे हैं। सीओ ने बताया कि प्रथमदृष्टया ऐसा…

2 months ago

दिग्गज ऑफ स्पिनर हरभजन सिंह ने क्रिकेट के सभी प्रारूपों से लिया संन्यास

हरभजन ने 1998 में शारजाह में न्यूजीलैंड के खिलाफ एकदिवसीय मैच से अंतरराष्ट्रीय पदार्पण किया…

5 months ago

यूपी में शनिवार से कोरोना कर्फ्यू, रात 11 बजे से सुबह पांच बजे तक प्रभावी रहेगा, शादियों में 200 से ज्यादा लोग नहीं

मुख्यमंत्री ने निर्देश दिया कि शनिवार 25 दिसंबर से प्रदेशव्यापी रात्रिकालीन कोरोना कर्फ्यू प्रभावी किया…

5 months ago

सरकार अब दो साल तक रखेगी आपके कॉल डेटा, इंटरनेट के इस्तेमाल संबंधी रिकॉर्ड, जानिए

लाइसेंस में संशोधन 21 दिसंबर को जारी किए गए थे और 22 दिसंबर को इनका…

5 months ago