5वीं से भी कम पढ़े MDH के धर्मपाल ने कैसे खड़ी की 1500 करोड़ की कंपनी | ख़बर खर्ची

5वीं से भी कम पढ़े MDH के धर्मपाल ने कैसे खड़ी की 1500 करोड़ की कंपनी

mahashay dharampal, MDH, mahashay dharampal death, mahashay dharampal gulati, mahashay dharampal gulati net worth, mahashay dharampal gulati son, mahashay dharampal gulati age, mahashay, dharampal gulati cars, mahashay dharampal gulati young, mahashay dharampal gulati death news, mahashay dharampal gulati biography, mahashay dharampal age, mahashay dharampal arya pratibha vikas sansthan, mahashay dharampal mdh age, mahashay dharampal ki age, mahashay dharampal biography, mahashay dharampal birthday, mahashay dharampal died, mahashay dharampal death news, mahashay dharampal gulati daughter, mahashay dharampal gulati date of birth, mahashay dharampal gulati family, mahashay dharampal gulati family tree, mahashay dharampal gulati father, mahashay dharampal hatti,mahashay dharampal house, mahashay dharampal gulati house, mahashay dharampal gulati hospital, mahashay dharampal gulati history in hindi, mahashay dharampal gulati in hindi, mahashay dharampal gulati instagram, mahashay dharampal gulati interview
महाशय धर्मपाल गुलाटी का जन्म साल 1923 में महाशय चुन्नीलाल गुलाटी और चन्नन देवी के घर सियालकोट में हुआ था जो अब पाकिस्तान में है।

बात उन दिनों की है जब देश अंग्रेजों की गुलामी से आजाद हुआ था। यानी सन 1947। आजादी के बाद देश का जब विभाजन हुआ। इसी वक्त एक परिवार पाकिस्तान छोड़ दिल्ली चला आया और फिर दिल्ली में ही गुजर बसर के लिए एक तांगा चलाने लगा। ये परिवार कोई और नहीं बल्कि देश के दौलतमंद लोगों में शुमार हो चुके मसलों के किंग महाशय धर्मपाल के परिवार की है। धर्मपाल का 3 दिसंबर सुबह दिल का दौरा पड़ने से निधन हो गया है।

धर्मपाल भी अपने पिता की तरह नई दिल्ली रेलवे स्टेशन से कुतुब रोड तक और करोल बाग़ से बाड़ा हिंदू राव तक तांगा चलाने लगे। वहीं धर्मपाल के पिता करोल बाग़ में ‘महशियान दी हट्टी’ के नाम से अपना पुराना मसालों का कारोबार शुरू किया। वो सूखे मसाले खरीद कर उन्हें पीस कर बाज़ार में बेचते थे।

Advertisement

दिल्ली के रेलवे स्टेशन पर तांगा चलाकर दो आना प्रति सवारी कमाने वाला एक शख्स बाद के दिनों में अरबपति बन गया। धर्मपाल ने MDH मसाले से देश ही नहीं विदेशों तक में अपनी पहचान बनाई

गौरतलब है कि धर्मपाल ने स्कूल की पढ़ाई तो शुरू की लेकिन पांचवीं का इम्तिहान वो नहीं दे पाए। साल 1933 में उन्होंने स्कूल छोड़ दिया और अपने पिता की मदद से नया कारोबार शुरू करने की कोशिश करने लगे। खुद अपनी आत्मकथा में धर्मपाल ने इस बात का खुलासा किया है कि उन्होंने ‘पौने पांच क्लास तक की’ ही पढ़ाई की है।

Advertisement

धर्मपाल ने पहले पिता की मदद से आईनों की दुकान खोली, फिर साबुन और फिर चावल का कारोबार किया। लेकिन इन कामों में मन नहीं लगने पर बाद में वो अपने पिता के मसालों के कारोबार में हाथ बंटाने लगे।

ये कारोबार अब पूरे देश-विदेश में फैल चुका है। 93 साल पुरानी ये कंपनी अब भारत के साथ-साथ यूरोप, जापान, अमेरिका, कनाडा और सऊदी अरब में अपने मसाले बेचती है। कंपनी का कारोबार 1500 करोड़ रुपये से ज़्यादा का बताया जाता है। उन्होंने अपनी मां के नाम पर दिल्ली में चन्नन देवी स्पेशलिटी हॉस्पिटल भी बनवाया।

Advertisement

क्यों पड़ा एमडीएच नाम
धर्मपाल की एमडीएच मसाले कंपनी का नाम उनके पिता के काराबोर से जुड़ा है। उनके पिता ‘महशियान दी हट्टी’ के नाम से मसालों का कारोबार करते थे। इसके साथ ही उन्हें ‘देगी मिर्च वाले’ के नाम से भी जानते थे। उन्हें व्यापार और वाणिज्य के लिए साल 2019 में भारत के दूसरे उच्च नागरिक सम्मान पद्म भूषण से भी नवाज़ा गया था।

Advertisement

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

x

Subscribe Now

You have successfully subscribed to the newsletter

There was an error while trying to send your request. Please try again.

ख़बर खर्ची will use the information you provide on this form to be in touch with you and to provide updates and marketing.