Advertisement

मां चामुंडा मंदिर में पूजा करने से मिलती है कष्टों से मुक्ति, जानिए देवी की शौर्य गाथा

नवादा से लगभग 23 किलोमीटर दूर रोह-कौआकोल मार्ग पर स्थित रूपौ गांव में मां चामुंडा मंदिर में पूजा करने से भक्तों की हर मनोकामना पूर्ण होती है।

Advertisement

नवादा। बिहार (Bihar) के नवादा (Navada) जिले में स्थित मां चामुंडा मंदिर (Chamunda devi temple) में पूजा करने से भक्तों की मनोकामनाएं पूर्ण होने के साथ ही उन्हें कष्टों से मुक्ति भी मिल जाती है।

नवरात्र में यहां भारी संख्या में भक्त पूजा-पाठ करने के लिए आते है

नवादा से लगभग 23 किलोमीटर दूर रोह-कौआकोल मार्ग पर स्थित रूपौ गांव में मां चामुंडा मंदिर में पूजा करने से भक्तों की हर मनोकामना पूर्ण होती है। नवरात्र में यहां भारी संख्या में भक्त पूजा-पाठ करने के लिए आते है। मां चामुंडा देवी के दरबार में नवरात्र के दौरान उपासना से भक्तों को रूप, जय और यश की प्राप्ति होती है। मां चामुंडा देवी के दर्शन एवं पूजन से भक्तों को जीवन की समस्त बाधाओं और कष्टों से मुक्ति मिलती है।

Advertisement

मां चामुंडा शक्तिपीठ में सप्तमी को विशेष पूजा-अर्चना की जाती है। सुबह से ही श्रद्धालु यहां पहुंच कर माता की अराधना में जुट जाते हैं। जिनकी मनोकामना पूर्ण होती है वे लोग अपने परिवार के साथ यहां पूरे दस दिनों तक पूजा-अर्चना करते है। मंदिर परिसर के अंदर मां चामुंडा का प्रतिदिन सुबह-शाम श्रृंगार और आरती की जाती है। मंदिर परिसर में कई अन्य देवी-देवताओं की मूर्ति भी है।

मां चामुंडा देवी की शौर्य गाथा

मार्कंडेय पुराण में मां चामुंडा देवी की शौर्य गाथा वर्णित है। मार्कंडेय पुराण के अनुसार, देवलोक में आतंक फैला रखे शुंभ-निशुंभ दैत्य भाइयों ने अपने दैत्य शिष्य चण्ड-मुण्ड को मां दुर्गा से युद्घ करने के लिए भेजा था। मां ने युद्ध कर चण्ड-मुण्ड का संहार कर दिया। इसके बाद से ही मां अम्बा चामुंडा देवी कही जाने लगी। चण्ड-मुण्ड के संहार के बाद उसके मुंडों की माला पहन कर मां चामुंडा देवी ने शुंभ-निशुभ दैत्यों का भी संहार किया। इसके बाद देवी-देवताओं ने राहत की सांस ली थी। देवी के रूप बदलने वाले स्थान का नाम है रूपौ। पुरोहितों का तर्क है कि शुंभ-निशुंभ के संहार के लिए मां अम्बा ने जिस स्थान पर अपना रूप बदला था, वर्तमान में वह स्थान रूपौ के नाम से जाना जाता है।

Advertisement

चामुंडा मंदिर की क्या है पौराणिक मान्यता ( Mythology of Goddess Chamunda)

पौराणिक मान्यता के अनुसार, भगवान शंकर जब अपनी पत्नी सती के मृत शरीर को लेकर तीनों लोकों में घूम रहे थे तब संपूर्ण सृष्टि भयाकूल हो गयी थी तभी देवताओं के अनुरोध पर भगवान विष्णु ने सुदर्शन चक्र से सती के शरीर को खंडित किया था। जहां-जहां सती के शरीर का खंड गिरा उसे शक्तिपीठ माना गया। माता सती का धड़ इसी स्थान पर गिरा था, जहां वर्तमान में मां चामुण्डा देवी का शक्तिपीठ स्थित है। प्रत्येक मंगलवार को यहां माता के दर्शन एवं पूजन के लिए श्रद्धालुओं का तांता लगा रहता है। मंदिर में शिव-पार्वती, गणेश जी, बजरंगबली, दुर्गा देवी, महाकाल, शनिदेव, विश्वकर्मा भगवान एवं राधा-कृष्ण भी विद्यमान हैं। मंदिर में चढ़ावा प्रसाद के रूप में दूध, नारियल, बताशा, पेड़ा, चुनरी, सिंदूर, लाल एवं सफेद उड़हुल फूल, अगरबत्ती एवं कपूर चढ़ाने की परंपरा है।

Advertisement
ख़बर खर्ची

Share

Recent Posts

भाजपा सांसद महेश शर्मा के करीबी पर हमला, जांच में जुटी पुलिस

गौतमबुद्ध नगर से सांसद महेश शर्मा के करीबी संचित शर्मा उर्फ सिंग्गा पंडित पर अज्ञात…

3 months ago

भाजपा का सिर शर्म से झुक जाना चाहिए, नुपुर शर्मा को लेकर न्यायालय की टिप्पणी पर कांग्रेस

पार्टी महासचिव जयराम रमेश ने एक बयान में यह भी कहा कि उच्चतम न्यायालय की…

7 months ago

आपको टीवी पर जाकर पूरे देश से माफी मांगनी चाहिए, नूपुर शर्मा को सुप्रीम कोर्ट की कड़ी फटकार

न्यायालय ने नुपुर शर्मा को अपनी इस टिप्पणी के लिए देश से माफी मांगने को…

7 months ago

अकेले अग्निवीर पूरी आर्मी कभी नहीं होंगे, Agnipath पर बोले अजीत डोभाल-रेजिमेंट की अवधारणा खत्म …

अग्निपथ योजना को लेकर हो रहे विरोध पर अजीत डोभाल ने कहा कि जहां तक…

8 months ago

Agnipath Scheme से दुनिया की सबसे बेहतरीन फौज दोयम दर्जे की हो जाएगी, पूर्व मेजर जनरल ने योजना को बताया त्रासदी

पी के सहगल ने सेना में नियुक्ति की नयी अल्पकालिक 'अग्निपथ योजना' को सेना के…

8 months ago