Advertisement

लॉकडाउन की वजह से उद्योग जगत में मचा हाहाकार, सरकार से प्रोत्साहन पैकेज की मांग

एसोचैम के महासचिव दीपक सूद ने कहा कि होटल, निर्माण, लॉजिस्टिक्स, विनिर्माण और व्यापार सभी क्षेत्र गंभीर वित्तीय संकट में हैं। ऐसे में एक बड़े…

Advertisement

लॉकडाउन (Lockdown) को लेकर उद्योग जगत में हाहाकार मचा हुआ। बंद पड़े कारखाने और सुस्त पड़े उद्योग को लेकर व्यापारी वर्ग ने चिंता जाहिर की है। इसी को लेकर भारतीय उद्योग जगत ने सरकार से तत्काल प्रोत्साहन पैकेज की मांग की है। उद्योग जगत का कहना है कि कोरोना वायरस की वजह से लागू लॉकडाउन के चलते आर्थिक गतिविधियां बुरी तरह प्रभावित हुई हैं, ऐसे में सरकार को जल्द किसी प्रोत्साहन पैकेज की घोषणा करनी चाहिए।

उद्योग ने सरकार द्वारा राष्ट्रव्यापी बंद को चार मई से दो सप्ताह तक बढ़ाने और इस दौरान कुछ क्षेत्रों में औद्योगिक गतिविधियों की अनुमति देने के फैसले का स्वागत किया।

Advertisement

भारतीय उद्योग परिसंघ (सीआईआई) ने कहा कि आर्थिक गतिविधियों पर अंकुश के मद्देनजर उद्योग के लिए अब तत्काल एक बड़े आर्थिक पैकेज की जरूरत है। सीआईआई के महानिदेशक चंद्रजीत बनर्जी ने कहा कि हमने सरकार को सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) के तीन प्रतिशत के बराबर सरकारी खर्च पैकेज का सुझाव दिया है। इससे करीब छह लाख करोड़ रुपये उपलब्ध होंगे। बनर्जी ने कहा कि ऐसे समय जबकि भारत में ऋण से जीडीपी अनुपात सबसे कम है, ऋण से जीडीपी अनुपात बढ़ाया जा सकता है।

उद्योग मंडल एसोचैम ने कहा कि सरकार का कोरोना वायरस पर नियंत्रण से हुए लाभ पर आगे बढ़ना समझ आता है और इसका समर्थन किया जाना चाहिए। लेकिन 40 दिन के बंद से आर्थिक गतिविधियां बुरी तरह प्रभावित हुई हैं। इससे संगठित और असंगठित दोनों क्षेत्रों के लाखों श्रमिकों की आजीविका पर संकट बन आया है।

Advertisement

एसोचैम के महासचिव दीपक सूद ने कहा कि होटल, निर्माण, लॉजिस्टिक्स, विनिर्माण और व्यापार सभी क्षेत्र गंभीर वित्तीय संकट में हैं। ऐसे में एक बड़े प्रोत्साहन पैकेज की जरूरत है।

एक अन्य उद्योग मंडल फिक्की ने लॉकडाउन से बाहर निकलने की रणनीति पर अपनी सिफारिशें गृह मंत्रालय को सौंपीं। फिक्की ने ग्रीन क्षेत्रों में औद्योगिक और वाणिज्यिक गतिविधियों की अनुमति देने का सुझाव दिया है। साथ ही फिक्की ने कहा है कि साफ सफाई और सामाजिक दूरी के दिशानिर्देशों का पालन किया जाना चाहिए।

Advertisement

फिक्की ने सरकारी सेवाओं मसलन दस्तावेजीकरण, स्टाम्पिंग, न्यासों का पंजीकरण शुरू करने का सुझाव दिया है। साथ ही फिक्की ने अंतरराष्ट्रीय कुरियर सेवाएं भी शुरू करने की वकालत की है।

Advertisement
ख़बर खर्ची

Share

Recent Posts

Petrol, Diesel Prices: फिर बढ़े वाहन ईंधन के दाम, मुंबई में डीजल का शतक

मुंबई में अब डीजल 100.29 (Petrol, Diesel Prices At All-Time Highs. Diesel Crosses ₹ 100-Mark…

3 days ago

बसपा की सरकार बनी तो बदले की भावना से रोकी नहीं जाएंगी केंद्र व राज्य की योजनाएं: मायावती

बसपा के संस्थापक कांशीराम के 15वें परिनिर्वाण दिवस पर कांशीराम स्मारक स्थल पर आयोजित श्रद्धांजलि…

4 days ago

सिसोदिया का वादाः यूपी में आप सरकार आई तो शिक्षा का बजट बढ़ाकर 25 प्रतिशत किया जाएगा

सिसोदिया का वादाः यूपी में आप सरकार आई तो शिक्षा का बजट बढ़ाकर 25 प्रतिशत…

2 weeks ago

‘जल्द ही कांग्रेस में आतंकवादियों को शामिल होते देखेंगे’, कन्हैया कुमार के पार्टी जॉइन करने पर बोले फिल्ममेकर

कांग्रेस में शामिल होने के बाद कन्हैया कुमार ने दावा किया कि कांग्रेस ही महात्मा…

2 weeks ago