Advertisement

दिलीप कुमार के बारे में वो बातें जो आप नहीं जानते हैं!

ट्रेज़डी किंग के नाम से मशहूर दिलीप कुमार का 98 साल की उम्र में निधन हो गया है। दिलीप कुमार का जन्म पाकिस्तान के पेशावर…

Advertisement

ट्रेज़डी किंग के नाम से मशहूर दिलीप कुमार का 98 साल की उम्र में निधन हो गया है। दिलीप कुमार का जन्म पाकिस्तान के पेशावर में लाला गुलाम सरवार के यहाँ हुआ था। दिलीप कुमार 12 भाई बहनों में से एक थे। इनके पिता फल बेचा करते थे, व अपने मकान का कुछ हिस्सा किराये में देकर जीवनयापन करते थे। हालांकि 1930 में इनका पूरा परिवार बॉम्बे में आकर रहने लगा। इसी दौरान पिता के साथ किसी बात को लेकर मतभेद हुआ जिसके बाद वे मुंबई वाले घर को छोड़कर पुणे चले गए थे। आइए हम आपको उनके बारे में वो बातें बताते हैं जो आप नहीं जानते हैं:

Less Known Facts About Dilip Kumar

Advertisement

1- दिलीप कुमार का जन्म पाकिस्तान के किस्सा–ख्वानी बाज़ार में हिंद-बोलने वाले परिवार में हुआ.
2- वह अपने 12 भाई-बहन के साथ पाले-बड़े हुए.
3- उनके पिता एक जमींदार और फल व्यापारी थे, और उनके देवलाली (महाराष्ट्र, भारत) और पेशावर (पाकिस्तान में) में खुद के बगीचे थे.
4- उन्होंने महाराष्ट्र के नासिक जिले के बार्नर्स स्कूल, देवलाली में अपनी पढ़ाई की.
5- वर्ष 1930 में, उनका परिवार पेशावर से बॉम्बे (अब मुंबई) में स्थान्तरित हो गया था.
6- वर्ष 1940 के आसपास, जब दिलीप कुमार एक किशोर थे, तब उनकी अपने पिता से किसी बात को लेकर विवाद उत्पन्न हो गया और उन्होंने अपना घर छोड़ दिया और पुणे रहने लगे.
7- उन्होंने पुणे के सेना क्लब में एक सैंडविच स्टाल भी स्थापित किया.
8- 5000 भारतीय रुपये के साथ, वह बॉम्बे (अब मुंबई) में आए. वर्ष 1942 में, उन्होंने देविका रानी (बॉम्बे टॉकीज की मालिक) से मुलाकात की और उनकी कंपनी द्वारा उन्हें प्रति वर्ष 1250 रुपए भुगतान किया जाता था.
9- अशोक कुमार ने दिलीप कुमार के अभिनय को निखारने में काफी योगदान दिया.
10- कुछ समय बाद वह सशधर मुखर्जी और अशोक कुमार के काफी निकट आ गए.
11- उर्दू भाषा में अपनी कुशलता के कारण, उन्होंने पटकथा लेखन में अपना करियर शुरू किया.
12- उन्होंने देविका रानी के अनुरोध पर अपना नाम यूसुफ से बदल कर दिलीप रख लिया.
13- देविका रानी ने उन्हें फिल्म ज्वार भाटा (1944) में एक मुख्य भूमिका प्रदान की. दिलीप कुमार ने हिंदी फिल्म उद्योग में अपने अभिनय करियर की शुरुआत की.
14- वर्ष 1947 में उनकी पहली बड़ी हिट फिल्म जुगनू अभिनेत्री नूरजहाँ के साथ थी.
15- उनकी पहली सफल फिल्म अंदाज़ (1949) नर्गिस और राज कपूर के साथ थी, जो कि एक त्रिकोणीय प्रेम कहानी थी.
16- फिल्मों में उनकी छवि के कारण उन्हें ट्रैजेडी किंग कहा जाता है, जैसे कि- जोगन (1950), हलचल (1951), तराना (1951), दीदार (1951), दाग (1952), आन (1952), उड़न खटोला (1955), देवदास (1955), मधुमती (1958), यहूदी (1958).
17- मुख्या अभिनेता के तौर पर उनकी पहली फिल्म अमर (1954) थी.
18- वर्ष 1953 में, वह पहले ऐसे भारतीय अभिनेता बने, जिसे हिंदी-फिल्म उद्योग में फिल्मफेयर सर्वश्रेष्ठ अभिनेता पुरस्कार से सम्मानित किया गया और अपने अभिनय करियरके दौरान उन्हें 7 बार यह सम्मान प्राप्त हुआ.
19- अपने गंभीर किरदारों की वजह से उन्हे ट्रैजेडी किंग कहा जाता है, हालांकि एक मनोचिकित्सक ने उन्हें गंभीर किरदारों के विपरीत हल्के फुल्के किरदार निभाने की सलाह दी.
20- उन्होंने के. आसिफ की महाकाव्य ऐतिहासिक फिल्म मुगल-ए-आज़म (1960) में राजकुमार सलीम की भूमिका निभाई, और वर्ष 2008 तक, यह फिल्म हिंदी-फिल्म इतिहास में दूसरी सबसे बड़ी कमाई वाली फिल्म थी.

Advertisement
ख़बर खर्ची

Share

Recent Posts

दैनिक भास्कर ने बताया- किस लिए हुई छापेमारी, दिग्विजय बोले- पत्रकारिता पर मोदी-शाह का प्रहार

दैनिक भास्कर समूह की मूल कंपनी ‘डी बी कॉर्प लिमिटेड’ की वेबसाइट पर उपलब्ध सूचना…

9 hours ago

वाराणसी: PM मोदी ने 1583 करोड़ रुपये से अधिक की परियोजनाओं का उद्घाटन, शिलान्यास किया

प्रधानमंत्री ने लगभग 839 करोड़ रुपये की लागत की कई परियोजनाओं और सार्वजनिक कार्यों की…

1 week ago

ऑक्सीजन पर विवाद: दिल्ली सीएम केजरीवाल ने विरोधियों को दे डाली नसीहत- मिलकर लड़ेंगे तो…

केजरीवाल ने ट्वीट किया, ‘‘ऑक्सीजन पर आपका झगड़ा खत्म हो गया हो तो थोड़ा काम…

4 weeks ago

क्या Pfizer या मॉडर्ना के वैक्सीन हमारे आनुवांशिक कोड को प्रभावित कर सकते हैं? जानिए

सरकार द्वारा जारी नवीनतम अनुमानों में यह कहा गया है। सितंबर से फाइजर टीके की…

4 weeks ago

फर्जी IAS अधिकारी बन किया लाखों की धोखाधड़ी, घरवालों से भी बोला झूठ

अधिकारी के मुताबिक, ‘‘देब संघ लोक सेवा आयोग की परीक्षा की तैयारी कर रहा था…

4 weeks ago