Advertisement

अर्नब की रिहाई पर कुणाल कामरा ने SC को ही लिया लपेटे में, अब बढ़ीं मुश्किलें

अर्नब गोस्वामी की अंतरिम जमानत के बाद कुणाल कामरा ने ट्वीट करते हुए लिखा था, 'जिस गति से सुप्रीम कोर्ट राष्ट्रीय महत्व के मुद्दों को…

Advertisement
कुणाल कामरा ने बुधवार को अर्नब गोस्वामी को सुप्रीम कोर्ट से जमानत मिलने के बाद विवादित ट्वीट किए थे।

मशहूर कॉमेडियन कुणाल कामरा रिपब्लिक टीवी के एडिटर इन चीफ़ अर्नब गोस्वामी की पत्रकारिता के घोर आलोचक माने जाते हैं। यही वजह है कि अर्नब से कुणाल का छत्तीस का आंकड़ा चलता है। इस बीच कुणाल कामरा ने अर्नब की रिहाई पर ट्वीट कर मुसीबत में घिर गए हैं।

कुणाल कामरा ने बुधवार को अर्नब गोस्वामी को सुप्रीम कोर्ट से जमानत मिलने के बाद विवादित ट्वीट किए थे। कामरा ने जमानत का आदेश देने वाले जस्टिस डी वाई चंद्रचूड़ के लिए अपमानजनक भाषा का प्रयोग किया था। इसी को लेकर एटॉर्नी जनरल केके वेणुगोपाल ने कॉमेडियन कुणाल कामरा पर अवमानना के मुकदमे के लिए सहमति दे दी है। गौरतलब है कि वकील रिजवान सिद्दीकी ने एटॉर्नी जनरल से सहमति मांगी थी।

Advertisement

वेणुगोपाल ने कहा, ”लोग समझते हैं कि कोर्ट के बारे में कुछ भी कह सकते है। मैंने ट्वीट देखे। आपराधिक अवमानना का मामला बनता है।”

Advertisement

जस्टिस डी वाई चंद्रचूड़ के बारे में कुणाल ने क्या लिखा दिया था?

अर्नब गोस्वामी की अंतरिम जमानत के बाद कुणाल कामरा ने ट्वीट करते हुए लिखा था, ‘जिस गति से सुप्रीम कोर्ट राष्ट्रीय महत्व के मुद्दों को ऑपरेट करती है यह समय है कि महात्मा गांधी के फोटो को हरीश साल्वे के फोटो से बदल दिया जाए।’

कुणाल का विवादों से रहा है नाता

Advertisement

कुणाल कामरा पहले भी अपने कमेंट्स को लेकर विवादों में रहे हैं। पिछले साल ही इंडिगो की फ्लाइट में कुणाल कामरा ने अर्नब गोस्वामी की पत्रकारिता को लेकर उसे कई सवाल किए थे जिसका अर्नब ने जवाब नहीं दिया था। सोशल मीडिया पर यह मुद्दा भी काफी गरमाया रहा। बाद में कुणाल पर हवाई यात्रा को लेकर 6 महीने का प्रतिबंध लगा दिया था। वहीं सुशांत सिंह राजपूत की आत्महत्या को लेकर उनकी पत्रकारिता को लेकर कुणाल और फिल्ममेकर अनुराग कश्यप अर्नब के ऑफिस उनको चप्पल गिफ्ट करने गए पहुंच गए थे।

किस बात पर कुणाल ने सुप्रीम कोर्ट पर दिया था बयानः दरअसल रिपब्लिक टीवी के एडिटर-इन-चीफ अर्नब गोस्वामी को 4 नवंबर को मुंबई पुलिस ने उनके घर से गिरफ्तार कर लिया था। बांबे हाईकोर्ट से जमानत ना मिलने के बाद अर्नब गोस्वामी ने सुप्रीम कोर्ट का रुख किया था। सुप्रीम कोर्ट ने अर्नब गोस्वामी और अन्य दो आरोपियों को 50-50 हजार रुपए के निजी मुचलके पर रिहा कर दिया है।बता दें, अर्नब गोस्वामी को 2018 के इंटीरियर डिजाइनर नाइक और उनकी मां को आत्महत्या के लिए उकसाने के मामले में 4 नवंबर को मुंबई पुलिस ने उनके घर से गिरफ्तार किया था।

Advertisement
ख़बर खर्ची

Share

Recent Posts

दैनिक भास्कर ने बताया- किस लिए हुई छापेमारी, दिग्विजय बोले- पत्रकारिता पर मोदी-शाह का प्रहार

दैनिक भास्कर समूह की मूल कंपनी ‘डी बी कॉर्प लिमिटेड’ की वेबसाइट पर उपलब्ध सूचना…

2 hours ago

वाराणसी: PM मोदी ने 1583 करोड़ रुपये से अधिक की परियोजनाओं का उद्घाटन, शिलान्यास किया

प्रधानमंत्री ने लगभग 839 करोड़ रुपये की लागत की कई परियोजनाओं और सार्वजनिक कार्यों की…

1 week ago

दिलीप कुमार के बारे में वो बातें जो आप नहीं जानते हैं!

ट्रेज़डी किंग के नाम से मशहूर दिलीप कुमार का 98 साल की उम्र में निधन…

2 weeks ago

ऑक्सीजन पर विवाद: दिल्ली सीएम केजरीवाल ने विरोधियों को दे डाली नसीहत- मिलकर लड़ेंगे तो…

केजरीवाल ने ट्वीट किया, ‘‘ऑक्सीजन पर आपका झगड़ा खत्म हो गया हो तो थोड़ा काम…

4 weeks ago

क्या Pfizer या मॉडर्ना के वैक्सीन हमारे आनुवांशिक कोड को प्रभावित कर सकते हैं? जानिए

सरकार द्वारा जारी नवीनतम अनुमानों में यह कहा गया है। सितंबर से फाइजर टीके की…

4 weeks ago