Advertisement

IMCR ने चीनी रैपिड टेस्टिंग किट का ऑर्डर किया रद्द, भारत के फैसले पर भड़का चीन

भारत के ऑर्डर रद्द करने को लेकर चीन काफी नाराज है। इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च के ऑर्डर रद्द करने पर चिंता जाहिर की है।

Advertisement
सरकार ने चीन से रैपिड टेस्ट किट (China Covid 19 Test Kit) खरीदी थी जिसकी गुणवत्ता काफी खराब निकली।

देश में कोरोना (Coronavirus) के बढ़ते प्रसार पर अंकुश लगाने और रोगियों का पता लगाने के लिए सरकार ने चीन से रैपिड टेस्ट किट (China Covid 19 Test Kit) खरीदी थी जिसकी गुणवत्ता काफी खराब निकली। ऐसे में स्‍वास्‍थ्‍य मंत्रालय और इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च (आईसीएमआर) ने इनके इस्‍तेमाल पर रोक लगा दी है। भारत ने अब चीन को दिए किट के सभी ऑर्डर रद्द कर दिए हैं।

उधर, भारत के ऑर्डर रद्द करने को लेकर चीन काफी नाराज है। इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च के ऑर्डर रद्द करने पर चिंता जाहिर की है। चीन का आरोप है कि कुछ लोग पक्षपातपूर्ण सोच के कारण टेस्ट किट की गुणवत्ता पर सवाल उठा रहे हैं।

Advertisement

इसको लेकर भारत में चीन के दूतावास ने सोमवार को एक बयान जारी किया। बयान के कहा गया है कि चीन से मंगाए गए टेस्ट किट की गुणवत्‍ता हमारी प्राथमिकता है। लेकिन कुछ लोग चीन के टेस्ट किट को अपनी पक्षपातपूर्ण सोच की वजह से दोषपूर्ण बता रहे हैं। यह अन्‍यायपूर्ण और गैरजिम्‍मेदाराना है।’ चीन ने बयान में यह भी कहा है कि वह भारत के इस फैसले से बेहद चिंतित है।

क्‍या है रैपिड टेस्‍ट?

रैपिड टेस्ट वह उपकरण है जिससे संक्रमितों की पहचान तेजी से कर लेता है। यानी संक्रमण से प्रभावित किसी व्यक्ति के सामान्य जांच में जो 8 से 9 घंटे कभी इससे ज्यादा भी लगता है, वहीं रैपिड टेस्ट के जरिए जांच के परिणाम महज आधे घंटे में ही आ जाता है। ऐसे में तेजी से संक्रमितों का पता लगाने और इलाज मुहैया कराने में आसानी हो जाती है।

Advertisement
जिनमें लक्षण नहीं दिखते उनका भी लग जाता है पता

रैपिड टेस्‍ट एंटीबॉडी की मदद लेता है। जब कोई व्यक्ति कोरोना का शिकार होता है तो उसके शरीर में इससे लड़ने के लिए एंडीबॉडी बनाता है। इस टेस्ट से यह पता चल जाता है कि शरीर के इम्‍यून सिस्‍टम ने वायरस को बेअसर करने के लिए एंटीबॉडी का निर्माण किया है या नहीं। और इस टेस्ट से उन संक्रमित व्यक्तियों का भी पता लगाया जा सकता है जिनमें संक्रमण के लक्षण कभी नहीं दिखते हैं।

ऐसे होता है जांच

रैपिड टेस्‍ट का दूसरा नाम सेरोलॉजिकल टेस्‍ट भी है। इस टेस्ट प्रक्रिया में संदिग्ध व्‍यक्ति का खून, प्‍लाज्‍मा या सिरम का नमूना लिया जाता है। परीक्षण के लिए आरटी-पीसीआर टेस्‍ट का इस्तेमाल किया जाता है जिसमें रोगी के नाक या गले से नमूने लिए जाते हैं। टेस्ट किट में सैंपल के साथ एक केमिकल को मिलाया जाता है। इस केमिकल की मदद से नतीजे आधे घंटे में आ जाते हैं।

Advertisement
ख़बर खर्ची

Share

Recent Posts

CBSE Board Exam 2021: 10वीं की परीक्षाएं रद्द हुईं, 12वीं की स्थगित

शिक्षा मंत्रायलय ने CBSE की10वीं कक्षा की बोर्ड परीक्षा रद्द कर दी है वहीं 12वीं…

22 hours ago

Chaitra Navratri 2021: तिथि और दिन के हिसाब से मां चुनती हैं अपना वाहन, इसबार इस वाहन से धरती पर उतरेंगी देवी दुर्गा

वैसे तो मां दुर्गा का वाहन शेर है, लेकिन हर वर्ष नवरात्र के समय तिथि…

3 days ago

खुशखबरी: एक क्लिक पर Paytm ग्राहक पायें 2 लाख रुपए, जानिए कैसे?

अगर आप ये लोन लेते हैं तो paytm इसको चुकाने के लिए 18-36 महीने तक…

3 days ago

यूपी में बेक़ाबू हुई कोरोना की दूसरी लहर, सरकार ने लाए सख़्त नियम

कोरोना के रविवार को आए आंकड़ों में 15,353 लोगों को कोरोना वायरस की पुष्टि हुई…

3 days ago

महाविद्रोही राहुल सांकृत्यायन की जयंती पर पढ़िए उनके बेहतरीन उद्धरण

आज विद्राेही राहुल सांकृत्यायन का जन्मदिवस है। राहुल सांकृत्यायन सच्चे अर्थों में जनता के लेखक…

6 days ago

वाराणसी: 11वीं के छात्र ने बनाया अजूबा बैग, कोरोना सुरक्षा से लेकर गुमशुदगी तक का करेगा रिपोर्ट

वाराणसी के आर्यन इंटरनेशनल स्कूल में पढ़ने वाले पुष्कर ने बताया कि, "कोरोना के बढ़…

6 days ago