Delhi-NCR में लाखों लीटर नालियों में बहा दिया गया बीयर, जानें क्या है वजह | ख़बर खर्ची

Delhi-NCR में लाखों लीटर नालियों में बहा दिया गया बीयर, जानें क्या है वजह

why beer plants thows fresh beers in drains, कोविड-19, कोरोना वायरस,  covid-19, coronavirus news, Coronavirus Lockdown 2.0, beer plants forced to throw fresh beer,  coronavirus india, Coronavirus cases, coronavirus,  india News, india News in Hindi, Latest india News,

लॉकडाउन की वजह से दिल्ली एनसीआर में स्थित माइक्रोब्रुअरीज (शराब भट्टी) अब तक लाखों लीटर बीयर नालियों में बहा दिए हैं। एनबीटी में छपी रिपोर्ट के मुताबिक दिल्ली एनसीआर में अबतक 1 लाख लीटर ताजा बीयर को ब्रुअरीज नालियों में बहा चुके हैं। ऐसा इसलिए किया गया क्योंकि इसे खराब होने से बचाने(सुरक्षित) में इसकी कीमत से कहीं ज्यादा लागत आ रही है।

रिपोर्ट के मुताबिक गुरुग्राम के साइबर-हब आउटलेट से 5000 लीटर बीयर नाली में बहाए जा चुके हैं। वहीं एक और ब्रुअरीज को 3 हजार लीटर बीयर फेंकनी पड़ी। छोटे-मोटे ब्रुअरीज को मिलाकर कुल 1 लाख लीटर से ज्यादा ताजा बीयर को फेंकना पड़ा है।

Advertisement

ब्रुअरीज मालिकों का कहना है कि ताजा बीयर कम समय तक ही ठीक रह पाता है। उसे एक निश्चित तापमान में रखना पड़ता है जिसकी मॉनिटरिंग भी रोज करनी पड़ती है। सामान्य दिनों में ऐसा नहीं होता था लेकिन इस वक्त स्टाक में ताजा बीयर ज्यादा हैं औऱ उनको सुरक्षित रखने में लागत से ज्यादा कीमत आएगी इसलिए वे फेंकने पर मजबूर हैं।

ब्रुअर्स का कहना ये भी है कि सरकार से वे होम डिलीवरी की अनुमित मांगे थे लेकिन नहीं मिली। विदेशों में ऐसा हो रहा है। लॉकडाउन के हटने के बाद बीयर की दुकानों पर पहले जैसी भीड़ लगेगी इसका भी उन्हें संदेह है।

Advertisement

इसके साथ ही ब्रुअर्स दोहरे नुकसान को झेलने की बात की है। उनका कहना है कि सिर्फ उत्पादन की कीमत का ही नुकसान नहीं हुआ है बल्कि लाइसेंसे की फीस औऱ ड्यूटी का भी नुकसान झेलना पड़ा है जिसका उन्होंने एडवांस में भुगतान कर दिया था। नैशनल रेस्ट्रॉन्ट असोसिएशन ऑफ इंडिया (NRAI) की गुरुग्राम यूनिट के हेड बंगा ने स्टेट एक्साइज डिपार्टमेंट को लिखा है कि अप्रैल में लाइसेंसों के रीन्यूअल की फी न ली जाए। माइक्रोब्रुअरी लाइसेंस पर ही हर महीने लाखों का खर्च आता है।

Advertisement

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

x

Subscribe Now

You have successfully subscribed to the newsletter

There was an error while trying to send your request. Please try again.

ख़बर खर्ची will use the information you provide on this form to be in touch with you and to provide updates and marketing.