कंगना विवादः उद्धव ठाकरे सरकार पर बरसे देवेंद्र फडणवीस- कंगना का ऑफिस तोड़ा लेकिन दाऊद का घर छोड़ा | ख़बर खर्ची

कंगना विवादः उद्धव ठाकरे सरकार पर बरसे देवेंद्र फडणवीस- कंगना का ऑफिस तोड़ा लेकिन दाऊद का घर छोड़ा

kangana ranaut, Devendra Fadnavis, कंगना रनौत, Dawood Ibrahim Ghar,  Government of Maharashtra,  Kangana Ranaut,  Kangana Ranaut Office,  uddhav thackeray, dawood, mumbai, Bhindi bazaar,  देवेंद्र फडणवीस, उद्धव ठाकरे, भिंडी बाजार, दाऊद का घर,


शिवसेना पर निशाना साधते हुए महाराष्ट्र विधानसभा में विपक्ष के नेता देवेंद्र फडणवीस ने शुक्रवार को कई सवाल खड़े किए। फडणवीस ने कहा कि राज्य सरकार को लगता है कि कोरोना वायरस के खिलाफ लड़ाई खत्म हो चुकी है और अब एकमात्र लड़ाई अभिनेत्री कंगना रनौत के खिलाफ रह गई है।

फडणवीस ने आगे यह भी कहा कि राज्य सरकार ने उच्चतम न्यायालय के समक्ष मराठा आरक्षण मामले को पेश करते समय “रणनीतिक गलती” की हो सकती है। इस सप्ताह के शुरू में शीर्ष अदालत ने 2018 के राज्य के कानून के कार्यान्वयन पर रोक लगा दी, जिसमें शिक्षा और नौकरियों में मराठा समुदाय को आरक्षण दिया गया था।

Advertisement

उन्होंने बताया, ‘‘(महाराष्ट्र) सरकार को लगता है कि कोरोना के खिलाफ युद्ध खत्म हो गया है और एकमात्र लड़ाई कंगना के खिलाफ बची है। पूरी सरकारी मशीनरी कंगना के खिलाफ लड़ाई में शामिल है। वे जो चाहें कर सकते हैं, लेकिन उन्हें राज्य में कोरोना वायरस की स्थिति से निपटने पर ध्यान देना चाहिए।

फडणवीस ने कहा, ‘‘आप कंगना के खिलाफ लड़ाई में जो समय खर्च कर रहे हैं, उसका कम से कम 50 फीसदी (कोरोना वायरस से निपटने में) लगाएं।’’ उन्होंने आरोप लगाया कि शिवसेना के कई नेताओं के घरों और दफ्तरों में गैरकानूनी बदलाव किए गए हैं, लेकिन उनके खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं की गई है। उन्होंने सवाल खड़ा किया, ‘‘क्या आपने दाऊद (इब्राहिम) के घर को ध्वस्त करने का प्रबंधन किया था?’’

Advertisement

महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री बिहार के लिए रवाना होने से पहले राष्ट्रीय राजधानी में थे। भाजपा ने उन्हें बिहार में चुनाव संबंधी जिम्मेदारियाँ दी हैं।

Advertisement

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

x

Subscribe Now

You have successfully subscribed to the newsletter

There was an error while trying to send your request. Please try again.

ख़बर खर्ची will use the information you provide on this form to be in touch with you and to provide updates and marketing.