Advertisement

सर्वेः 54% ग्रामीणों के पास बचा सिर्फ 1 हफ्ते का राशन, 25.5 % बढ़ी बेरोजगारी

सीएमआईई की रिपोर्ट में कहा गया है कि देश में बेरोजगारी के आंकड़ों में तेजी से बढ़ोतरी हुई है। 21 मार्च के बाद से बेरोजगारी दर 7.4 फीसदी थी, जो 5 मई को बढ़कर 25.5 फीसदी हो गई है।

Advertisement
अगर एक हफ्ते लॉकडाउन और बढ़ा तो देश के एक तिहाई परिवार भूख से मर जाएंगे।

कोरोना वायरस के चलते देशभर में लॉकडाउन (Lockdown) का तीसरा चरण चल रहा है। लोग घरों में कैद हैं। कामकाज पूरा ठप पड़ा है। क्या आम आदमी क्या और औद्योगिक घराने सभी बुरी तरह से प्रभावित हुए हैं। लेकिन सेंटर फॉर मॉनिटरिंग इंडियन इकोनॉमी (CMIE) के एक सर्वे की मानें तो 84 फीसदी से अधिक घरों की मासिक आमदनी में काफी गिरावट आई है। वहीं 25 फीसदी लोग पूरी तरह से बेरोजगार हो चुके हैं।

सर्वे में इस बात की ओर भी इशारा किया गया है कि अगर लॉकडाउन 1हफ्ते और बढ़ा तो भारतीय परिवारों में से एक तिहाई से अधिक के पास जीवनयापन के लिए जरूरी संसाधन खत्म हो जाएंगे। गौरतलब है कि मंगलवार देश को संबोधित करते हुए पीएम नरेंद्र मोदी ने चौथे चरण के लॉकडाउन के लागू होने के संकते देते हुए कहा कि इसे नए रूप रंग में लागू किया जाएगा। लॉकडाउन का तीसरा फेज 17 मई को खत्म होने वाला है।

Advertisement

34 फीसदी लोगों की स्थिति खराब

CMIE की रिपोर्ट में इसके चीफ इकनॉमिस्ट कौशिक कृष्णन ने कहा है कि अगर पूरे देश की बात करें तो 34 फीसदी घरों की स्थिति खराब हो चुकी है। ऐसे लोगों के पास सिर्फ एक हफ्ते के लिए राशन पानी बचा हुआ है। इसके बाद वे भूख के शिकार हो जाएंगे। उन्होंने इस बात का भी जिक्र किया है कि समाज में कम आय वर्ग के लोगों को तुरंत मदद किए जाने की जरूरत है। अगर सरकार इनकी मदद नहीं की तो ये कुपोषण और गरीबी की वजह से होने वाली अन्य समस्याओं में घिर जाएंगे।

Advertisement

2.70 करोड़ युवा एक झटके में हो गए बेरोजगार

सीएमआईई की रिपोर्ट में कहा गया है कि देश में बेरोजगारी के आंकड़ों में तेजी से बढ़ोतरी हुई है। 21 मार्च के बाद से बेरोजगारी दर 7.4 फीसदी थी, जो 5 मई को बढ़कर 25.5 फीसदी हो गई है। स्टडी के मुताबिक देश में 20 से 30 साल आयु वर्ग के 2 करोड़ 70 लाख युवाओं को अप्रैल में नौकरी से हाथ धोना पड़ा है।

Advertisement

बिहार, हरियाणा, झारखंड की स्थिति होगी और बद्तर

बेरोजगारी बढ़ी तो आमदनी भी कम हुई है। भारत के ग्रामीण इलाके( जो शहरी हैं) के 65 फीसदी परिवार के पास सिर्फ 1 हफ्ते का राशन है। वहीं 54 फीसदी लोग एक हफ्ते से ज्यादा दिनों तक सर्वाइव कर सकते हैं। बात करें दिल्ली पंजाब और कर्नाटक जैसे राज्यों की तो इनपर लॉकडाउन का असर थोड़ा कम हुआ है। जबकि बिहार, हरियाणा और झारखंड जैसे राज्यों के लोगों की आमदनी पर काफी असर पड़ा है। आगे और भी स्थिति खराब होने वाली है।

Advertisement

लेबर पार्टिसिपेशन 36.2 फीसदी से बढ़कर 37.6 फीसदी हो गया इसके अलावा 1.78 करोड़ तनख्वाह पर काम करने वाले नौकरीपेशा लोगों का रोज़गार अप्रैल महीने तक खत्म हो चुका है। शहरों में कोविड-19 के मामले अभी भी सामने आ रहे हैं, जिसके कारण यहां लोगों को रोजगार में अभी भी समस्या का सामना करना पड़ रहा है। रिपोर्ट में कहा गया है कि इस दौरान लेबर पार्टिसिपेशन 36.2 फीसदी से बढ़कर 37.6 फीसदी हो गया है। जो एरिया ग्रीन और ऑरेंज सर्कल में आ रहे हैं, वहां सरकार उद्योगों को धीरे-धीरे खोलने की अनुमति दे रही है। इससे रोजगार दर 26.4 फीसदी से बढ़कर 28.6 फीसदी हो गई है।

Advertisement
ख़बर खर्ची

Share

Recent Posts

अकेले अग्निवीर पूरी आर्मी कभी नहीं होंगे, Agnipath पर बोले अजीत डोभाल-रेजिमेंट की अवधारणा खत्म …

अग्निपथ योजना को लेकर हो रहे विरोध पर अजीत डोभाल ने कहा कि जहां तक…

1 week ago

Agnipath Scheme से दुनिया की सबसे बेहतरीन फौज दोयम दर्जे की हो जाएगी, पूर्व मेजर जनरल ने योजना को बताया त्रासदी

पी के सहगल ने सेना में नियुक्ति की नयी अल्पकालिक 'अग्निपथ योजना' को सेना के…

1 week ago

KGF Chapter 2 full movie leaked: यश स्टारर केजीएफ 2 को तमिलरॉकर्स ने किया लीक, ऐसे देखें HD वीडियो

श का स्वैग, प्रशांत नील का निर्देशन, ताली बजाने योग्य संवाद, आश्चर्यजनक एक्शन सेट-पीस और…

2 months ago

यूपीः महोबा के SBI की शाखा में लगी भीषण आग, तमाम दस्तावेज जलकर खाक

बैंक अधिकारी इस घटना की पड़ताल कर रहे हैं। सीओ ने बताया कि प्रथमदृष्टया ऐसा…

3 months ago

दिग्गज ऑफ स्पिनर हरभजन सिंह ने क्रिकेट के सभी प्रारूपों से लिया संन्यास

हरभजन ने 1998 में शारजाह में न्यूजीलैंड के खिलाफ एकदिवसीय मैच से अंतरराष्ट्रीय पदार्पण किया…

6 months ago