Advertisement

Hindi Essay On Christmas Day: क्रिसमस पर ऐसे लिखें हिंदी में निंबध

क्रिसमस डे पूरी दुनिया में धूमधाम से हर साल 25 दिसंबर को मनाया जाता है। क्योंकि ईसा मसीह का जन्म इसी शुभ तिथि में हुआ…

Advertisement

Christmas Day 2020: क्रिसमस ईसाइयों का मुख्य त्योहार है। इसे 25 दिसंबर को ईसाइयो के देवता जीसस क्राइस्ट के जन्म दिवस के रूप में क्रिस्टमस डे मनाया जाता है। ईसाई धर्म के लोगों के लिए क्रिसमस का काफी महत्व है। जैसे हिंदुओं के लिए दीवाली का और मुस्लमानों के लिए ईद का महत्व होता है। यह त्योहार ठंड के मौसम में मनाया जाता है। जैसे-जैसे ठंड का पारा बढ़ता है वैसे-वैसे क्रिसमस का रंग खिलने लगता है। आज हम इस खास मौके पर आपके लिए क्रिसमस का महत्व, क्रिसमस पर निबंध और अन्य जानकारियां साझा करने जा रहे हैं। छात्र इस आर्टिकल Essay on Christmas Day in Hindi का इस्तेमाल अपने स्कूल में निबंध प्रतियोगिता में कर सकते हैं। क्रिसमस के दिन लोग सोशल मीडिया के जरिए एक दूसरे को हैप्पी क्रिसमस डे और Merry Christmas के मैसेज, कविता, शायरी आदि भी भेजते है। क्रिसमस डे 25 दिसंबर पर निबंध 300 शब्द में, क्रिसमस का महत्व और क्रिसमस पर कविता नीचे इस पेज से पढ़ें।

क्रिसमस पर 100 शब्दों में निबंध

Christmas Essay in Hindi Short । Christmas Essay In Hindi 100 Words क्रिसमस एक ईसाईयों का बड़ा त्योहार है जिसे इसे मानने वालों द्वारा ठंड के मौसम में मनाया जाता है। इस दिन पर सभी एक सांस्कृतिक अवकाश का लुत्फ उठाते है तथा इस अवसर सभी सरकारी (स्कूल, कॉलेज, विश्वविद्यालय, शिक्षण संस्थान, प्रशिक्षण केन्द्र आदि) तथा गैर-सरकारी संस्थान बंद रहते हैं। इस उत्सव को लोग बहुत उत्साह और ढ़ेर सारी तैयारियों तथा सजावट के साथ मनाते है। इस दिन शॉपिंग मॉल से लेकर घरों और चौक चौराहों पर सजावट देखने को मिलता है। ये त्योहार बच्चों के लिए काफी खास होता है क्योंकि वे मानते हैं कि इस दिन सांता आएगा और उनके लिए ढेर सारे गिफ्ट/उपहार लेकर आएगा। क्रिसमस हर साल 25 दिसंबर के दिन मनाया जाता है। इसे ईसा के भोज दिवस के रुप में भी जाना जाता है तथा प्रभु ईसा के जन्मदिवस के सम्मान में मनाया जाता है। ईसाई धर्म के लोगों के लिये ये एक बड़े महत्व का दिन है।

Advertisement

परंपरा और मान्यता

क्रिसमस के त्यौहार में यह एक परंपरा है कि लोग इस दिन अपने दोस्तों और रिश्तेदारों को सुन्दर ग्रीटिंग कार्ड भेजते और देते हैं। हर कोई परिवार के लोग और दोस्त रात के दावत में शामिल होते है। इस पर्व में मिठाई, चॉकलेट, ग्रीटींग कार्ड, क्रिसमस पेड़, सजावटी वस्तुएँ आदि भी पारिवारिक सदस्यों, दोस्तों, रिश्तेदार और पड़ोसियों को देने की परंपरा है। लोग पूरे जुनून के साथ महीने के शुरुआत में ही इसकी तैयारियों में जुट जाते है। इस दिन लोग गाने गाकर, नाचकर, पार्टी मनाकर, अपने प्रियजनों से मिलकर मनाते है। प्रभु ईसा, ईसाई धर्म के संस्थापक के जन्मदिवस के अवसर पर ईसाईयों द्वारा इस उत्सव को मनाया जाता है। लोगों का ऐसा मानना है कि मानव जाति की रक्षा के लिये प्रभु ईसा को धरती पर भेजा गया है।

क्रिसमस डे पर निबंध 300 शब्द में

क्रिसमस डे पूरी दुनिया में धूमधाम से हर साल 25 दिसंबर को मनाया जाता है। क्योंकि ईसा मसीह का जन्म इसी शुभ तिथि में हुआ था। क्रिसमस ईसाइयों का प्रमुख त्योहार है। आज कल हिन्दू में भी क्रिसमस को लेकर बहुत उत्साह रहता है। भारत वर्ष में भी क्रिसमस की बहुत प्रमुखता बढ़ती जा रही है। ईसा मसीह ऊँच-नीच के भेदभाव को नहीं मानते थे। उन्होंने दुनिया के लोगों को प्रेम और भाईचारे के साथ रहने का संदेश दिया था। क्रिसमस इसलिए भी बहुत महत्वपूर्ण हो जाता है क्योंकि कुछ दिन बाद न्यू ईयर भी आ जाता है। हम बोल सकते है कि दिसंबर महीने के आखिरी 10 दिन उत्साह से भरे होते है।

Advertisement

बच्चे क्रिसमस का बड़ी ही बेसब्री से इंतजार करते हैं। इस दिन बच्चों को सांताक्लॉज के आने का इंतजार रहता है। क्रिसमस ईसाईयों का सबसे बड़ा त्योहार है जिसे ठंड के मौसम में मानाया जाता है। इस दिन सभी सरकारी स्कूल, कॉलेज, ऑफिस बंद होते हैं। क्रिसमस त्योहार को लोग बहुत उत्साह और ढ़ेर सारी तैयारियों तथा सजावट के साथ मनाते हैं। ईसाई धर्म के लोग क्रिसमस से कुछ दिन पहले ही अपने घरों को लाइटें व स्टार लगाकर सजा देते हैं। क्रिसमस की रोनक बाजारों में भी देखने को मिलती है। बाजारों में क्रिसमस ट्री, केक, सेंटाक्लॉज के लाल और सफेद रंग के कपड़े, गिफ्ट, आदि समान बिकने लगते हैं। क्रिसमस डे 25 दिसंबर के दिन लोग चर्च जाते हैं और कैंडल जलाकर और प्रेयर करके ईसा मसीह को याद करते हैं। क्रिसमेस डे के दिन लोग अपने घरों में क्रिसमस ट्री सजाते हैं और एक-दूसरे को केक खिलाकर त्योहार की बधाई देते हैं।

सांताक्लॉज की ड्रेस में व्यक्ति बच्चों को टॉफियां और गिफ्ट देकर जाता है। पूरी दुनिया में क्रिसमस आनंद और खुशियों का त्योहार है। यह लोगों को आपस में जोड़ता है। क्रिसमस का त्योहार लोगों को सबके साथ मिल-जुलकर रहने का संदेश देता है और ईसा मसीह द्वारा सिखाये गये क्षमा, भाईचारा और त्याग जैसी बातों का बोध कराता है।

Advertisement

निष्कर्ष

पूरी दुनिया में क्रिसमस, युवा और बूढ़े लोगों द्वारा प्यार किया जाने वाला एक विशेष और जादुई अवकाश है। दुनिया भर में क्रिसमस के बारे में जानने के लिए बहुत कुछ है। अन्य देशों में भी बच्चे और बूढ़े क्रिसमस का जश्न मनाते हैं। इस तरह क्रिसमस का त्योहार लोगों को सबके साथ मिल-जुलकर रहने का संदेश देता है। ईसा मसीह कहते थे-दीन-दुखियों की सेवा संसार का सबसे बड़ा धर्म है।

Advertisement
ख़बर खर्ची

Share

Recent Posts

महाविद्रोही राहुल सांकृत्यायन की जयंती पर पढ़िए उनके बेहतरीन उद्धरण

आज विद्राेही राहुल सांकृत्यायन का जन्मदिवस है। राहुल सांकृत्यायन सच्चे अर्थों में जनता के लेखक…

2 days ago

वाराणसी: 11वीं के छात्र ने बनाया अजूबा बैग, कोरोना सुरक्षा से लेकर गुमशुदगी तक का करेगा रिपोर्ट

वाराणसी के आर्यन इंटरनेशनल स्कूल में पढ़ने वाले पुष्कर ने बताया कि, "कोरोना के बढ़…

2 days ago

अमित शाह अपने आप में एक देश बन गए हैं जिन पर कोरोना के क़ानून लागू नहीं होतेः रवीश कुमार

क्या चुनाव आयोग अमित शाह पर कार्रवाई कर सकता है? इस सवाल को पूछ कर…

3 days ago

हिंदी मीडियम वाले गांव के लड़कों के लिए बॉलीवुड की राह आसान नहीं, पंकज त्रिपाठी ने बयां किया दर्द

पंकज त्रिपाठी ने कहा कि इंडस्‍ट्री में आउटसाइडर्स की सफलता की राह इतनी आसान नहीं…

3 days ago

समर्थकों के साथ खेत में भागी TMC उम्मीदवार सुजाता खान, गांववालों ने लाठी लेकर दौड़ाया

तीसरे चरण के मतदान के दिन आरामबाग से टीएमएसी उम्मीदवार सुजाता मंडल खान पोलिंग बुथ…

4 days ago

तलाक के बाद अपना घर नहीं बसाईं सितारों की ये पूर्व पत्नियां, दोबारा शादी से किया तौबा

बॉलीवुड स्टार कबीर बेदी (Kabir Bedi) ने अपनी जिंदगी में 3 बार शादियां की। कबीर…

4 days ago