Advertisement

दिल का दौरा पड़ने के बाद अस्पताल में भर्ती हुए अजीत जोगी, हालत गंभीर; ऐसा है राजनीतिक सफर

2018 के विधानसभा चुनाव में अजीत जोगी अपनी नई पार्टी 'छत्तीसगढ़ जनता कांग्रेस (जे)' के बैनर तले चुनाव लड़ा था। छत्तीसगढ़ के पूर्व मुख्यमंत्री अजीत…

Advertisement
2018 के विधानसभा चुनाव में अजीत जोगी अपनी नई पार्टी ‘छत्तीसगढ़ जनता कांग्रेस (जे)’ के बैनर तले चुनाव लड़ा था।

छत्तीसगढ़ के पूर्व मुख्यमंत्री अजीत जोगी को शनिवार सुबह अचानक तबीयत खराब होने से उन्हें रायपुर के एक प्राइवेट हॉस्पिटल (श्री नारायण हॉस्पिटल) में एडमिट कराया गया है। डॉक्टरों का कहना है कि उन्हें दिल का दौरा पड़ा है। अजीत जोगी की हालत फिलहाल गंभीर है बनी हुई है। हालात को बिगड़ता देख डॉक्टरों ने उन्हें वेंटिलेटर पर रखा है।

मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक जोगी का सुबह करीब 7 बजे ही उनकी विधायक पत्नी डॉ. रेणु ने ब्लड प्रेशर चेक किया। ब्लड प्रेशर के कम होने और कुछ सुधार नहीं होने पर उन्हें अस्पताल में भर्ती कराया गया।

अस्पताल के डायरेक्टर डॉक्टर सुनील खेमका के मुताबिक जोगी को कार्डियक अरेस्ट आया था। अब रिकवरी हो रही है। हालांकि, स्थिति अब भी गंभीर है। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने बेटे अमित जोगी से फोन पर अजीत के स्वास्थ्य के बारे में जानकारी ली।

Advertisement

बता दें जोगी छत्तीसगढ़ कांग्रेस के दिग्गज नेताओं में से एक हैं। हाल ही में उन्होंंने पार्टी छोड़कर नया दल बना लिया। 2018 में हुए विधानसभा चुनाव में उन्होंने अपनी नई पार्टी ‘छत्तीसगढ़ जनता कांग्रेस (जे)’ के बैनर तले चुनाव लड़ा था। हालांकि स्वास्थ्य कारणों से पिछले कुछ महीनों वे पार्टी को ज्यादा समय नहीं दे पार रहे थे।

साल 2019 में स्वास्थ्य मंत्री टीएस सिंहदेव की माता की तेरहवीं में भी अजीत जोगी की तबीयत खराब हो गई थी। उस वक्त वह बेहोश हो गए थे।

Advertisement

प्रशासनिक अधिकारी से लेकर आदिवासी नेता तक

विनोद वर्मा की किताब ‘गढ़ छत्तीस’ के मुताबिक अजीत जोगी ने मैकेनिकल इंजीनियरिंग की शिक्षा हासिल करने के बाद रायपुर इंजीनियरिंग कॉलेज में शिक्षक भी रहे। हालांकि कम ही समय वे यहां अपनी सेवा दे पाए। इसके बाद वह भारतीय प्रशासनिक सेवा यानी IAS ज्वाइन की। इस सेवा में रहते हुए उन्होंने इंदौर, जबलपुर, ग्वालियर, सीधी, शहडोल और रायुपर के कलेक्टर के रूप में अपनी सेवाएं दीं। प्रशाशनिक अधिकारी के रूप में भी अजीत जोगी ने शहर दर शहर घूमे और राजनीतिक अनुभव हासिल किया। शुरू से ही पढ़ने-लिखने में भी रुचि रखने वाले अजीत को मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री अर्जुन सिंह राजनीति में ले आए और कांग्रेस में एक मजूबत नेता के तौर स्थापित हो गए। राजीव गांधी के काफी करीबी माने जाते थे अजीत जोगी।

Advertisement

Advertisement
ख़बर खर्ची

Share

Recent Posts

CBSE Board Exam 2021: 10वीं की परीक्षाएं रद्द हुईं, 12वीं की स्थगित

शिक्षा मंत्रायलय ने CBSE की10वीं कक्षा की बोर्ड परीक्षा रद्द कर दी है वहीं 12वीं…

3 hours ago

Chaitra Navratri 2021: तिथि और दिन के हिसाब से मां चुनती हैं अपना वाहन, इसबार इस वाहन से धरती पर उतरेंगी देवी दुर्गा

वैसे तो मां दुर्गा का वाहन शेर है, लेकिन हर वर्ष नवरात्र के समय तिथि…

2 days ago

खुशखबरी: एक क्लिक पर Paytm ग्राहक पायें 2 लाख रुपए, जानिए कैसे?

अगर आप ये लोन लेते हैं तो paytm इसको चुकाने के लिए 18-36 महीने तक…

2 days ago

यूपी में बेक़ाबू हुई कोरोना की दूसरी लहर, सरकार ने लाए सख़्त नियम

कोरोना के रविवार को आए आंकड़ों में 15,353 लोगों को कोरोना वायरस की पुष्टि हुई…

2 days ago

महाविद्रोही राहुल सांकृत्यायन की जयंती पर पढ़िए उनके बेहतरीन उद्धरण

आज विद्राेही राहुल सांकृत्यायन का जन्मदिवस है। राहुल सांकृत्यायन सच्चे अर्थों में जनता के लेखक…

5 days ago

वाराणसी: 11वीं के छात्र ने बनाया अजूबा बैग, कोरोना सुरक्षा से लेकर गुमशुदगी तक का करेगा रिपोर्ट

वाराणसी के आर्यन इंटरनेशनल स्कूल में पढ़ने वाले पुष्कर ने बताया कि, "कोरोना के बढ़…

5 days ago