Advertisement

धर्म और लिंग की दीवार तोड़ मुस्लिम महिला श्मशान घाट में करती है शवों का दाह संस्कार, जानें पूरी कहानी

सुबीना रहमान ने बताया ‘‘प्रति शव हमें 500 रुपये मिलते हैं और यह राशि तीन लोगों में बराबर बंटती है।

Advertisement
श्मशान भूमि में सुबीना रहमान (Subina Rehman)। फोटोः सोशल मीडिया

त्रिशूर (केरल), 29 सितंबरः श्मशान भूमि में हर सुबह पीतल का दिया जला कर मुस्लिम महिला सुबीना रहमान (Subina Rehman) शवों के दाह संस्कार के लिए तैयारी करती हैं और इस दौरान वह कभी भी अपने धर्म के बारे में नहीं सोचतीं।

उम्र के करीब तीसरे दशक को पार कर रही ,शॉल से सिर ढककर रहने वाली सुबीना रहमान अन्य से बेहतर जानती है कि मौत का कोई धर्म नहीं होता है और सभी को खाली हाथ ही अंतिम सफर पर जाना होता है।

Advertisement

सुबीना स्नातक की पढ़ाई पूरी नहीं कर पाईं

मध्य केरल (Kerla) के त्रिशूर जिले के इरिजालाकुडा में एक हिंदू श्मशान घाट में पिछले तीन साल से शवों का दाह संस्कार कर रही सुबीना स्नातक की पढ़ाई पूरी नहीं कर पाईं। उन्होंने बताया कि उन्होंने अब तक कई शवों का दाह संस्कार किया है जिनमें करीब 250 शव कोविड-19 मरीजों के भी शामिल हैं। कोविड-19 मरीजों के दाह संस्कार के दौरान घंटों पीपीई किट पहने रहने और पसीने से तर-बतर होने के बावजूद वह दिवंगत आत्मा की शांति के लिए अपने तरीके से प्रार्थना करना नहीं भूलीं।

Advertisement

सुबीना ने लैंगिक धारणा को तोड़ते हुए शवों का दाह संस्कार करने का काम चुना

सुबीना ने लैंगिक धारणा को तोड़ते हुए शवों का दाह संस्कार करने का काम चुना जो आमतौर पर पुरुषों के लिए भी कठिन कार्य माना जाता है। माना जाता है कि दक्षिण भारत में वह पहली मुस्लिम महिला है जिन्होंने यह पेशा चुना है। हालांकि, 28 वर्षीय रहमान बेबाकी से कहती हैं कि वह किसी बंदिश को तोड़ने के लिए इस पेशे में नहीं आई बल्कि अपने परिवार के भरण-भोषण के लिए उन्होंने यह पेशा चुना है ताकि वह अपने पति की मदद कर सकें और बीमार पिता का इलाज करा सकें जो लकड़हारा हैं।

Advertisement

अब लाशें मुझे भयभीत नहीं करतीं

पेशे को लेकर विरोध होने और मजाक उड़ाए जाने से बेपरवाह सुबीना ने कहा, ‘‘ बिना हरकत के, बंद आंखों और नाक में रूई भरी लाशों को देखना अन्य लोगों की तरह मेरे लिए भी बुरे सपने की तरह था लेकिन अब लाशें मुझे भयभीत नहीं करतीं।’’

Advertisement

यह किस्मत ही है कि यह काम मेरे कंधों पर आया

सुबीना ने कहा कि उन्होंने कभी कल्पना नहीं की थी कि वह श्मशान में शवों का दाह संस्कार करेंगी। उनके अनुसार, बचपन में उनका सपना पुलिस अधिकारी बनने का था। उन्होंने कहा,‘‘यह किस्मत ही है कि यह काम मेरे कंधों पर आया और मैं इसे पूरी ईमानदारी और प्रतिबद्धता से करती हूं। मुझे यह पेशा चुनने को लेकर कोई अफसोस नहीं है क्योंकि मेरा मानना है कि हर कार्य सम्मानजनक होता है …मुझे यह काम करके गर्व महसूस होता है।’’

Advertisement

घर का काम पूरा करने के बाद सुबीना सुबह साढ़े नौ बजे श्मशान पहुंच जाती हैं। दो पुरुष सहकर्मियों की मदद से वह परिसर की सफाई करती हैं, एक दिन पहले हुए दाह संस्कार के अवशेष हटाती हैं और दिया जला कर दिन की शुरुआत करती हैं। कोविड काल में उन्हें लगातार 14 घंटे ड्यूटी करना पड़ा था।

प्रति शव हमें 500 रुपये मिलते हैं

Advertisement

सुबीना रहमान ने बताया ‘‘प्रति शव हमें 500 रुपये मिलते हैं और यह राशि तीन लोगों में बराबर बंटती है। एक दिन में औसतन छह या सात शव आते हैं। कोविड काल में हमें हर दिन 12 शवों का भी दाह संस्कार करना पड़ा। ’’

सुबीना के लिए पांच साल की उस बच्ची का दाह संस्कार बेहद पीड़ादायी था जो खेलते हुए गांव के तालाब में गिर गई थी और उसकी मौत हो गई थी। ‘‘उसके पिता विदेश में थे। अंतिम समय में वे पीपीई किट पहने हुए श्मशान पहुंचे अपनी बेटी को देखने। बहुत तड़प कर रोते हुए उन्होंने बच्ची की मृत देह मुझे अंतिम संस्कार के लिए सौंपी थी और मैं भी खुद पर नियंत्रण नहीं कर पाई।’’

Advertisement

बहरहाल, घर लौटते समय सुबीना अपनी यादों को साथ नहीं ले जाना चाहतीं। हालांकि वह कहती हैं ‘‘हम मौत को रोक नहीं सकते, यह तो आनी है।

Advertisement
ख़बर खर्ची

Share

Recent Posts

भाजपा सांसद महेश शर्मा के करीबी पर हमला, जांच में जुटी पुलिस

गौतमबुद्ध नगर से सांसद महेश शर्मा के करीबी संचित शर्मा उर्फ सिंग्गा पंडित पर अज्ञात…

3 months ago

भाजपा का सिर शर्म से झुक जाना चाहिए, नुपुर शर्मा को लेकर न्यायालय की टिप्पणी पर कांग्रेस

पार्टी महासचिव जयराम रमेश ने एक बयान में यह भी कहा कि उच्चतम न्यायालय की…

7 months ago

आपको टीवी पर जाकर पूरे देश से माफी मांगनी चाहिए, नूपुर शर्मा को सुप्रीम कोर्ट की कड़ी फटकार

न्यायालय ने नुपुर शर्मा को अपनी इस टिप्पणी के लिए देश से माफी मांगने को…

7 months ago

अकेले अग्निवीर पूरी आर्मी कभी नहीं होंगे, Agnipath पर बोले अजीत डोभाल-रेजिमेंट की अवधारणा खत्म …

अग्निपथ योजना को लेकर हो रहे विरोध पर अजीत डोभाल ने कहा कि जहां तक…

8 months ago

Agnipath Scheme से दुनिया की सबसे बेहतरीन फौज दोयम दर्जे की हो जाएगी, पूर्व मेजर जनरल ने योजना को बताया त्रासदी

पी के सहगल ने सेना में नियुक्ति की नयी अल्पकालिक 'अग्निपथ योजना' को सेना के…

8 months ago