Advertisement

ठंड में कांप रहा भिखारी निकला पुलिस अधिकारी, रास्ते में DSP की नजर पड़ी तो…

अपने ही साथी को इस हालात में देख डीएसपी ने तुरंत उसे अपने जूते और जैकेट दिए। मध्य प्रदेश के ग्वालियर में डीएसपी रत्नेश सिंह…

Advertisement
अपने ही साथी को इस हालात में देख डीएसपी ने तुरंत उसे अपने जूते और जैकेट दिए।

मध्य प्रदेश के ग्वालियर में डीएसपी रत्नेश सिंह तोमर उपचुनाव की मतगणना वाली रात तफरी कर रहे थे। सुनसान रास्ते से जब वे गुजर रहे थे तो सड़क किनारे एक बुजुर्ग भिखारी पर उनकी नजर पड़ी। ठंड से ठिठुर रहे एक भिखारी की मदद के लिए अपनी गाड़ी रोकी तो उस भिखारी से मिल दंग रह गए। डीएसपी की उनकी हैरानी की वजह जान आप भी हैरान रह जाएंगे। दरअसल वह भिखारी डीएसपी रत्नेश सिंह के ही बैच का एक अधिकारी था जो हालात का मारा था।

अपने ही साथी को इस हालात में देख डीएसपी ने तुरंत उसे अपने जूते और जैकेट दिए। इतना ही नहीं वह उसे अपने साथ ले गए और उसका इलाज भी करवा रहे हैं। रिपोर्ट के मुताबिक ग्वालियर में उपचुनाव की मतगणना के बाद से डीएसपी रत्नेश सिंह तोमर और विजय सिंह भदौरिया राउंड पर निकल थे। इस दौरान झांसी रोड पर वाटिका की फुटपाथ सड़क पर उन्हें एक भिखारी ठंड से ठिठुरता दिखाई दिया। इसके बाद दोनों अधिकारियों ने गाड़ी रोकी और उस भिखारी से बात करने के लिए पहुंच गए।

Advertisement

इस बातचीत के दौरान डीएसपी विजय भदौरिया ने अपनी जैकेट उसे दे दी। इस दौरान दोनों अधिकारियों को पता चला कि वह भिखारी कोई और नहीं बल्कि उनके ही बैच का एक अधिकाारी मनीष मिश्रा है। मनीष मिश्रा पिछल 10 सालों से लावारिस हालात में सड़कों पर घूम रहे हैं। मनीष ने पुलिस की नौकरी 1999 में ज्वाइन की थी। इसके बाद मध्य प्रदेश के कई थानों में थानेदार के रूप में पदस्थ रहे। वर्ष 2005 में वह दतिया में आखिरी बार थाना प्रभारी के रूप में पोस्टेड थे। इसके बाद से उनकी मानसिक स्थिति खराब होती चली गई। उनके परिवार ने उनका इलाज शुरू करवाया। इस बीच उनकी पत्नी ने भी उन्हें छोड़ दिया।

एक दिन मनीष अपने परिवारवालों की नजरों से बचकर भाग गए। इसके बाद वह सड़क पर भटकने लगे और भीख मांगने लगे। बताया जा रहा है कि वह करीब 10 साल से भीख मांग रहे हैं। मनीष के दोनो डीएसपी दोस्तों ने कहा कि उन्होंने कभी सोचा नहीं था कि उन्हें वह एक दिन इस हालत में मिलेंगे। मनीष के परिवार के अधिकत्तर सदस्य पुलिस महकमे में है या रहे हैं। उनके भाई थानेदार हैं और पिता व चाचा भी एसएसपी के पद से रिटायर हुए हैं। उनकी बहन भी किसी दूतावास में अच्छे पद पर हैं। मनीष की पत्नी भी न्यायिक विभाग में पदस्थ हैं।

Advertisement
ख़बर खर्ची

Share

Recent Posts

Chaitra Navratri 2021: तिथि और दिन के हिसाब से मां चुनती हैं अपना वाहन, इसबार इस वाहन से धरती पर उतरेंगी देवी दुर्गा

वैसे तो मां दुर्गा का वाहन शेर है, लेकिन हर वर्ष नवरात्र के समय तिथि…

2 days ago

खुशखबरी: एक क्लिक पर Paytm ग्राहक पायें 2 लाख रुपए, जानिए कैसे?

अगर आप ये लोन लेते हैं तो paytm इसको चुकाने के लिए 18-36 महीने तक…

2 days ago

यूपी में बेक़ाबू हुई कोरोना की दूसरी लहर, सरकार ने लाए सख़्त नियम

कोरोना के रविवार को आए आंकड़ों में 15,353 लोगों को कोरोना वायरस की पुष्टि हुई…

2 days ago

महाविद्रोही राहुल सांकृत्यायन की जयंती पर पढ़िए उनके बेहतरीन उद्धरण

आज विद्राेही राहुल सांकृत्यायन का जन्मदिवस है। राहुल सांकृत्यायन सच्चे अर्थों में जनता के लेखक…

5 days ago

वाराणसी: 11वीं के छात्र ने बनाया अजूबा बैग, कोरोना सुरक्षा से लेकर गुमशुदगी तक का करेगा रिपोर्ट

वाराणसी के आर्यन इंटरनेशनल स्कूल में पढ़ने वाले पुष्कर ने बताया कि, "कोरोना के बढ़…

5 days ago

अमित शाह अपने आप में एक देश बन गए हैं जिन पर कोरोना के क़ानून लागू नहीं होतेः रवीश कुमार

क्या चुनाव आयोग अमित शाह पर कार्रवाई कर सकता है? इस सवाल को पूछ कर…

6 days ago